Thursday 2021-09-16, 09:49:35 PM  तक के समाचार

NEWS VIA SMS

Click here to register
Headlines
छत्तीसगढ़ : CM बघेल की डिप्टी सेक्रेटरी के घर पर IT का छापा, अंडर ग्राउंड हुईं सौम्या चौरसिया! PM मोदी कल बुंदेलखण्ड को देंगे बड़ी सौगात, जानिए पूरा शेड्यूल पंचायत चुनाव: 707 ग्राम पंचायतों में चुनाव कार्यक्रम की घोषणा, 15 मार्च को डाले जाएंगे वोट कन्हैया कुमार पर चलेगा देशद्रोह का मुकदमा, केजरीवाल सरकार ने दी मंजूरी आजम खान की बहू ने कहा- 'जेल में मच्छर बहुत थे, रात भर वालिद सो न सके' सीएम केजरीवाल का ऐलान- हिंसा पीड़ितों की मदद के लिए ऑन स्पॉट दिए जाएंगे 25-25 हजार रुपए कोटा: महिला का पेट चीरकर उसमें भर दिए थे कपड़े, कोर्ट ने अभियुक्त को सुनाई फांसी की सजा भारी बर्फ़बारी से बंद हुईं तिब्बत सीमा तक पहुंचने वाली सड़कें... खोलने की कोशिश जारी मुस्लिमों को शिक्षा में 5% आरक्षण देगी महाराष्ट्र सरकार, विधान परिषद में नवाब मलिक का ऐलान महाराष्ट्र: घुसपैठियों का पता बताओ 5000 इनाम पाओ, मुंबई में MNS ने लगाए पोस्टर हरियाणा: केमिकल फैक्ट्री में बॉयलर फटने से 4 की मौत, 30 से ज्यादा लोग घायल कन्हैया कुमार पर कसा शिकंजा, देशद्रोह का चलेगा केस DCP की जान बचाने वाले ACP अनुज का छलका दर्द- '...लेकिन मेरा ऑपरेटर रतनलाल शहीद हो गया' दिल्ली हिंसा: अब तक 123 FIR, 630 दंगाइयों को पकड़ा, लेकिन गिरफ्त से दूर शाहरुख-ताहिर बांग्लादेश के इस धाकड़ खिलाड़ी ने किया टीम के साथ पाकिस्तान जाने से इनकार, बताई ये बड़ी वजह दिल्ली हिंसाः भीम आर्मी समर्थकों की ओर से हुआ था पहली बार पथराव, मिले अहम सुराग वित्त मंत्री सीतारमण ने चेताया, कोरोनावायरस से निपटने के लिए बस तीन हफ्ते, वरना परेशानी होगी दिल्ली जैसे दंगे का दुनिया में भारत की सेहत पर खराब असर पड़ता है : पूर्व विदेश सचिव पाकिस्तान में ट्रेन से टकराई बस के हो गए तीन टुकड़े, 20 की मौत, कई घायल कोरोना वायरस: अब इंसान से जानवरों में भी फैल रही बीमारी! हांगकांग में संक्रमित मिला कुत्ता US-तालिबान के बीच हुआ शांति समझौता, 14 महीने में सैनिकों को वापस बुलाएगा अमेरिका तुर्की ने सीरिया में नेस्तनाबूद किया रासायनिक अस्त्र केंद्र, तनाव कम करने की कोशिश जारी महातिर मोहम्मद के इस्तीफे के बाद मलेशिया के नए प्रधानमंत्री नामित किए मोहिउद्दीन यासीन UN में बोला भारत- आतंकियों पर नकेल कसे और उनके अड्डों को नष्ट करे पाकिस्तान Delhi Violence: 7 मार्च तक उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सभी स्कूल बंद, परीक्षाएं स्थगित बड़बोले बयानों पर बीजेपी को RSS नेता ने दी नसीहत- प्रभु राम की मर्यादा का संदेश याद रखें, सोच समझकर बोलें राजद्रोह कानून पर अरविंद केजरीवाल सरकार की समझ गलत: पी. चिदंबरम दिल्ली हिंसा के खिलाफ कपिल मिश्रा का शांति मार्च, कहा- अंकित शर्मा के घर भी जाएं केजरीवाल अक्षय कुमार ने स्‍टेज पर छोटी बच्‍ची से पूछा सेल्‍फ डिफेंस सीखने का कारण, मिला ऐसा जवाब बारां में हनुमान चालीसा के लिए नहीं मिली लाउडस्पीकर की इजाजत तो विहिप ने दी ये चेतावनी

UN में बोला भारत- आतंकियों पर नकेल कसे और उनके अड्डों को नष्ट करे पाकिस्तान

जिनेवा:जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में सकारात्मक विकास को पटरी से उतारने की पाकिस्तान (Pakistan) की साजिशों की कड़ी निंदा करते हुए भारत (India) ने संयुक्त राष्ट्र (United Nations) में पाक नेतृत्व से कहा कि वह आतंकवाद का वित्त पोषण बंद करे और उसकी अपनी जमीन तथा उसके नियंत्रण वाले इलाकों से संचालित आतंकवादी शिविरों को नष्ट करे.

अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत का यह बयान, वैश्विक आतंकवाद वित्तीय निगरानी संस्था "वित्तीय कार्रवाई बल (Finance Action Task Force) के पेरिस (Paris) में लिए गए फैसले के एक सप्ताह बाद आया है. एफएटीएफ (FATF) ने पाकिस्तान को 'ग्रे लिस्ट' में बनाए रखने का फैसला करने के साथ ही उसे चेतावनी दी थी कि अगर उसने अपने नियंत्रण वाले इलाकों से जारी आतंकवाद को वित्तीय पोषण मुहैया कराने वालों को दंडित नहीं किया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी."

मानवाधिकार परिषद (Human Rights Council) की यहां 43वीं बैठक में पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार हनन (Human Rights Violations) पर चिंता जताए जाने के बाद भारत ने उन आरोपों पर जवाब देने के अपने अधिकार के तहत ये बातें कहीं.

भारत की छवि खराब करने में लगा है पाकिस्तान

भारत के स्थायी मिशन में प्रथम सचिव विमर्श आर्यन ने कहा कि पाकिस्तान सभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत की छवि खराब करने के की कोशिश कर है. लेकिन पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय बिरादरी को गुमराह करने के लिए खुला नहीं छोड़ा जा सकता.

आर्यन ने कहा, "पाकिस्तान आतंकवादी संगठनों को खुला समर्थन देकर जम्मू कश्मीर में सकारात्मक विकास को पटरी से उतारने की साजिशें कर रहा है लेकिन उसकी ऐसी साजिशों के बावजूद जम्मू कश्मीर में हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं." इस मौके पर भारत ने पाकिस्तान को दस नसीहतों की सूची सुझाई. भारतीय राजनयिक ने पाक से कहा कि वह उसकी अपनी जमीन तथा उसके नियंत्रण वाले इलाकों से संचालित आतंकवादी शिविरों को नष्ट करे. "शीर्ष स्तर पर पाकिस्तानी नेतृत्व आतंकवादियों का खुला समर्थन करना बंद करे, पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू कश्मीर में अवैध कब्जों को समाप्त करे, जनसांख्यिकी बदलावों को पूर्व स्थिति में लाए और पाकिस्तान में लोकतंत्र के लिए ढांचागत विकास पर काम करे."

अल्पसंख्यकों पर अत्याचार कर रहा पाकमुस्लिम आबादी बहुल पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की दुर्दशा को रेखांकित करते हुए आर्यन ने पड़ोसी हुक्मरान से कहा कि वह ईशनिंदा कानून का बेजा इस्तेमाल कर अल्पसंख्यकों को मौत के घाट उतारे जाने पर रोक लगाए, हिंदू, सिख और ईसाई धर्मो की महिलाओं और बच्चियों के जबरिया धर्मांतरण को खत्म करें और साथ ही शियाओं, अहमदिया, इस्लामिया और हाजरा लोगों के खिलाफ धार्मिक उत्पीड़न पर लगाम लगाए.

उन्होंने कहा, "आसिया बीवी के खिलाफ ईशनिंदा कानून, अहमदिया अब्दुल शकूर के खिलाफ कहर बरपाना, नाबालिग सिख लड़की जगजीत कौर का अपहरण और जबरन विवाह - ये सब आज पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के लिए आए दिन की बात हो गए हैं."

आतंकवाद के लिए बच्चों का कर रहा इस्तेमाल
आर्यन ने पाकिस्तान पर यह भी आरोप लगाया कि वह दूसरे देशों में आत्मघाती हमलों सहित विभिन्न आतंकवादी करतूतों के लिए बच्चों को भर्ती कर रहा है. भारत और पाकिस्तान में लोकतंत्र की स्थिति के बारे में आर्यन ने कहा कि पूरी दुनिया आज इस हकीकत को बखूबी जानती है कि पाकिस्तान में मानवाधिकार की क्या हालत है. उधर, भारत के लोकतांत्रिक संस्थान समय की कसौटियों पर खरे उतरे हैं और वे संस्थान अल्पसंख्यकों समेत अपने सभी नागरिकों के हितों की रक्षा करने के लिए किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है.

कश्मीर मसले पर आर्गेनाइजेशन आफ इस्लामिक कोआपेरशन के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए भारतीय दूत ने कहा कि भारत के आंतरिक मामलों में टिप्पणी करने का उसका कोई अधिकार ही नहीं बनता है.

राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) पर बेल्जियम की टिप्पणी का हवाला देते हुए आर्यन ने कहा, "भारत का करीबी सहयोगी होने के नाते हम चाहते थे कि बेल्जियम इस मुद्दे पर किसी नतीजे पर पहुंचने से पहले हमसे तथ्यों की पड़ताल करता." उन्होंने साथ ही कहा, "हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी साफ साफ कह चुके हैं कि असम में उच्चतम न्यायालय के निर्देशों को छोड़कर कहीं भी एनआरसी पर कोई चर्चा नहीं हुई है."

Leave a Reply
Be nice. Keep it clean. Stay on topic. No spam..Required fields are marked *
वीडियो
Prabhu Darshan