नई दिल्‍ली. देश में कोरोना (Corona) का संक्रमण तेजी से फैल रहा है. हर दिन कोरोना नए रिकॉर्ड तोड़ रहा है और मृतकों की संख्‍या बढ़ती जा रही है. कोरोना पर काबू पाने के लिए राज्‍य सरकारों ने भी अब कई तरह के प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए हैं. ऐसे में अब जरूरी हो गया है कि देश का हर एक नागरिक कोरोना प्रोटोकॉल (Corona Protocol) का पालन करे और कोरोना के लक्षण दिखने पर तुरंत अपनी जांच कराए. इन सबके बीच ऐसे कई सवाल हैं, जिसके बारे में जानने की जरूरत है. एम्‍स (AIIMS) के निदेशक रणदीप गुलेरिया (Randeep Guleria) ऐसे ही सवालों के जवाब लेकर आए हैं जो हमें कोरोना संक्रमण से बचा सकते हैं.

अगर कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आ जाए तो उसे क्या करना चाहिए?

अगर कोरोना संक्रमित व्‍यक्ति के संकर्प में आने के बाद जांच में आपकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है तो सबसे पहले देखना चाहिए कि आपको शुगर, हार्ट या ब्लडप्रेशर की तकलीफ तो नहीं है. इसे तुरंत कंट्रोल करने की जरूरत होती है. इसके अलावा घर पर आइसोलेशन की व्यवस्था है तो फिर घर पर ही आइसोलेट हो जाएं. इसके साथ ही ये देखते रहना होगा कि आपका ऑक्‍सीजन लेवल कितना है. ऐसे समय में पानी और इलेक्‍ट्रोलाइट्स की मात्रा को बढ़ा देना चाहिए.

  • अगर उम्र ज्‍यादा हो लेकिन कोई गंभीर बीमारी नहीं हो तो भी क्‍या तुरंत अस्‍पताल जाना चाहिए?

    अगर उम्र ज्‍यादा होती है तो ये देखना जरूरी हो जाता है कि लक्षण सामान्‍य हैं या नहीं. ऐसे में घर पर आइसोलेट हो जाना चाहिए. उम्र ज्‍यादा होने पर जोखिम से बचना चाहिए और अगर आप कोविड सेंटर जा सकते हैं तो बेहतर होगा. इससे आप हर वक्‍त डॉक्‍टरों की निगरानी में रहेंगे.

  • मुझे कोविड था और अब रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है तो क्‍या मैं लोगों से मिल सकता हूं?

    अगर आपको कोरोना हुए 10 दिन का समय बीत चुका है और तीन दिनों से आपको बुखार नहीं आया है और कोरेाना के कोई लक्षण भी नहीं दिखाई दे रहे हैं तो आप लोगों से मिल सकते हैं. आपका RT-PCR तब भी पॉजिटिव हो सकता है. क्योंकि RTPCR डेड वायरस को भी पिक करता है

  • नए म्यूटेंट वायरस में कोरोना के किस तरह के लक्षण दिख रहे हैं?

    कोरेाना के लक्षण में ज्‍यादा बदलाव नहीं है. जुकाम, नजला, गले में खराश, शरीर में दर्द और खांसी होना. कई बार देखने को मिलता है कि कोरोना होने पर भी सांस की दिक्‍कत नहीं होती. इस बार मरीजों में लूज मोशन, डायरिया, उल्टी और बुखार जैसी शिकायत देखने को मिल रही है. अगर आपको लूज मोशन, डायरिया, उल्टी और बुखार जैसे लक्षण हों तो बेहतर होगा कि आप अपना टेस्ट करा लें, भले ही आपको सांस से जुड़ी कोई समस्या नहीं है.

  • क्या इसके बाद तीसरी लहर की आशंका है?

    हमने जो गलती पहले की उसे दोहराया नहीं जा सकता है. इस वक्‍त आउटडोर एनवायरनमेंट बेहतर है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि बाहर हमलोग भीड़ लगाएं. अगर एक्‍सरसाइज करना है तो बाहर कर सकते हैं. अगर कमरे में करते हैं तो क्रॉस वेंटिलेशन जरूर होना चाहिए. हमें किसी भी तरह की ढील नहीं देनी चाहिए. इसलिए कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें.