नई दिल्ली, महिंद्रा एंड महिंद्रा अपनी इलेक्ट्रिक कार ई-वेरिटो के लिए लागत में कमी करने वाले विभिन्न उपायों पर विचार कर रही है ताकि वह ईईएसएल को इलेक्ट्रिक कारों की आपूर्ति के लिए प्रतिस्पर्धी कीमतों की पेशकश कर सके, सरकारी कंपनी एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) ने पहले चरण में 500 इलेक्ट्रिक कारों की आपूर्ति के लिए महिंद्रा एंड महिंद्रा तथा टाटा मोटर्स को चुना है। महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने कटौती के संभावित उपायों के बारे में कहा, एक क्षेत्र जो हमने चिन्हित किया है वह हमारे वाहनों की रेंज है। यह रेंज टेंडर की जरूरत के हिसाब से कहीं अधिक है, उन्होंने कहा कि ईईएसएल के टेंडर की शर्तो  के हिसाब से रेंज उपलब्ध करवाने से कंपनी को कुछ बचत होगी। ईईएसएल के आर्डर के तहत पहले चरण में 500 इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति पूरी होने के बाद ही दूसरे चरण के लिए आर्डर किया जाएगा, महिंद्रा एंड महिंद्रा ने कहा है कि पहले चरण में वह 150 से अधिक इलेक्ट्रिक कारों की आपूर्ति नहीं करेगी क्योंकि इससे अधिक आपूर्ति पर उसे घाटा होगा।