मास्को : व्लादिमीर पुतिन ने सोमवार को एक बार फिर रूस के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली. पुतिन का राष्ट्रपति के रूप में यह चौथा कार्यकाल है. उन्होंने मार्च में हुए चुनावों में जीत हासिल की थी. समाचार एजेंसी तास की रिपोर्ट के मुताबिक, व्लादिमीर पुतिन (65) ने ग्रैंड क्रेमलिन पैलेस के सेंट एंड्रयू हॉल में राष्ट्रपति पद की शपथ ली. पुतिन 18 सालों से राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री रहे हैं. पुतिन का पहला छह साल का कार्यकाल 2012 में शुरू हुआ, जबकि दूसरा कार्यकाल 7 मई 2024 को समाप्त होगा.                                                                                                                         रूस के संविधान की धारा 81 के अनुसार, एक व्यक्ति राष्ट्रपति के तौर पर लगातार दो कार्यकाल से अधिक समय तक सेवा नहीं दे सकता. राष्ट्रपति चुनाव 18 मार्च को हुए थे, जिसमें 67.54 फीसदी मतदान हुआ था. पुतिन ने 76.69 फीसदी वोट हासिल करते हुए अब तक का अपना बेहरीन प्रदर्शन किया था। उन्हें 5.6 करोड़ लोगों ने वोट दिया था. पुतिन ने आधिकारिक रूप से पदभार संभालने के बाद कहा, "मेरा मानना है कि समृद्ध रूस में शांति मेरे जीवन का अर्थ व कर्तव्य है. उन्होंने कहा, "रूस के लिए बेहतरीन काम करना मेरा कर्तव्य है। हमें उन क्षेत्रों में विकास करना चाहिए जिसमें हम हमेशा से मजबूत रहे हैं, साथ ही साथ हमें कम प्रगति वाले क्षेत्रों में भी काम करना चाहिए. हमें बहुत से फैसले लेने हैं". उन्होंने कहा, "इस साल रूसी संविधान को 25 साल हो जाएंगे..हमें बदलना चाहिए क्योंकि इतिहास बदलता है लेकिन इसी के साथ हमें हमारी जड़ों व हमारे इतिहास से जुड़े भी रहना चाहिए. 'स्पुतनिक' की रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रपति ने रूस के सभी क्षेत्रों में विकास की जरूरत का उल्लेख किया, जो सिर्फ एक मुक्त समाज द्वारा सुनिश्चित किया जा सकता है.