मुंबई, बॉलीवुड के जाने-माने अभिनेता विवेक ओबेराय आज 41 वर्ष के हो गये। 03 सितंबर 1976 को हैदराबाद में जन्मे विवेक को अभिनय की कला विरासत में मिली। उनके पिता सुरेश ओबेराय फिल्म इंडस्ट्री के मशहूर चरित्र अभिनेता है। विवेक ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 2002 में प्रदर्शित राम गोपाल वर्मा की फिल्म कंपनी से की। इस फिल्म में विवेक ने नेगेटिव किरदार निभाया। इस फिल्म के लिये विवेक सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता और सर्वश्रेष्ठ डेब्यू कलाकार के लिये सम्मानित किये गये।

वर्ष 2002 में ही प्रदर्शित फिल्म साथिया विवेक के करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी। शाद अली के निर्देशन में बनी इस फिल्म में विवेक के अपोजिट रानी मुखर्जी थी। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये विवेक सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामित किये गये। वर्ष 2004 विवेक के करियर के लिये अच्छा वर्ष साबित हुआ। इस वर्ष उनकी सुपरहिट फिल्म मस्ती प्रदर्शित हुयी। एडल्ट कॉमेडी पर आधारित इस फिल्म में विवेक ने अपने कॉमिक अभिनय से दर्शकों को जबरदस्त मनोरंजन किया वहीं इसी वर्ष मणिरत्नम की फिल्म युवा में उनके अभिनय का नया रंग देखने को मिला।

वर्ष 2004 में विवेक को सदी के महानायक अमिताभ बच्चन और पूर्व मिस व्लर्ड और अभिनेत्री ऐश्वर्या राय के साथ फिल्म 'क्यूं हो गया' में काम करने का अवसर मिला, लेकिन कमजोर पटकथा के कारण फिल्म कोई खास कमाल नही दिखा सकी। वर्ष 2005 में विवेक को शो मैन सुभाष घई की फिल्म किसना में काम करने का अवसर मिला लेकिन दुर्भाग्य से यह फिल्म भी टिकट खिड़की पर औंधे मुंह गिरी।

वर्ष 2006 में प्रदर्शित विशाल भारद्धाज की फिल्म ओमकारा में विवेक ने एक बार फिर से अपने अभिनय का जौहर दिखाकर दर्शकों को रोमांचित कर दिया।वर्ष 2007 में प्रदर्शित संजय गुप्ता की फिल्म शूट आउट एट बडाला में विवेक ने अंडरवल्र्ड डॉन माया डोलास का किरदार निभाकर दर्शकों को रोमांचित कर दिया। इस फिल्म के लिये वह सर्वश्रेष्ठ खलनायक के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामित किये गये।

वर्ष 2013 विवेक के करियर के लिये महत्वपूर्ण वर्ष साबित हुआ। इस वर्ष उनकी ग्रैंड मस्ती और क्रिश 3 जैसी सुपरहिट फिल्में प्रदर्शित हुयी। विवेक ने अपने सिने करियर में लगभग 35 फिल्मों में अभिनय किया। उनके करियर की अन्य फिल्मों में दम, डरना मना है, काल, होम डीलेवरी, प्यारे मोहन, नक्शा, फुल एंड फाइनल, मिशन इस्तानबुल, कुर्बान, प्रिंस, रक्त चरित्र, रक्त चरित्र 2 जिला गाजियाबाद जैसी फिल्में शामिल हैं।