विंध्याचल, उत्तर प्रदेश के विंध्याचल में गुरुवार से शुरु हो रहे प्रसिद्ध नवरात्र मेले की मुकम्मल व्यवस्था पूरी कर लेने का दावा करते हुए जिला प्रशासन ने कहा है कि पूरे क्षेत्र को सुरक्षा की दृष्टि से अभेद्य दुर्ग में तब्दील कर दिया गया है। नवरात्र में मां विंध्यवासिनी देवी के दर्शन करने यहां लाखों श्रद्धालु आते हैं। मेले में भगदड़,आतंकवादी घटनाओं और आग आदि से बचाव के लिए वैष्णोदेवी मंदिर के तर्ज पर यहां भी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। मेले में पहली बार ड्रोन कैमरे से निगरानी की जाएगी। पुलिस की खुफिया संगठनों ने भी यहां डेरा डाल दिया है। प्रसिद्ध विन्ध्याचल मेले की सुरक्षा व्यवस्था के लिए अर्ध सैनिक बल, ब्लैक कैट कमाण्डों सहित चार हजार जवानों को तैनात किया गया है।

पूरे मेला क्षेत्र की निगरानी ड्रोन कैमरे एवं सीसीटीवी कैमरे की जद में रहेगा। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए दर्शनार्थियों को त्रिस्तरीय चेकिंग से गुजरना होगा। गर्भ गृह में मां की प्रतिमा के चरण छूने पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। इस बार महत्वपूर्ण व्यक्तियों के दर्शन के लिए शाम को 4 से 6 बजे का समय निर्धारित किया गया है। तीर्थ पुरोहित, पंडों, नाईयों एवं मंदिर परिसर के सफाई कर्मियों के लिए ड्रेस कोड निर्धारित किए गए हैं। भगदड़ की स्थिति न पैदा हो इसके लिए जिला प्रशासन फूंक-फूंक कर कदम उठा रहा है। गंगा घाटों पर इस बार विशेष व्यवस्था की गई है।