उत्‍तराखंड:उत्तरखंड के कुछ हिस्‍सों में अगले 24 घंटे भारी बारिश होने का अनुमान जताया गया है.  मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश के कुछ हिस्‍सों में पिछले 24 घंटों में भी भारी बारिश हुई है. मुनस्‍यारी में 250 एमएम, बनबसा में 140 एमएम, नैनीताल में 110 एमएम, हल्‍द्वानी में 110 एमएम, धारचूला में 70 एमएम और देहरादून में 32 एमएम बारिश हुई है. वहीं तेज बारिश के कारण प्रदेश में बद्रीनाथ और केदारनाथ यात्रा को रोक दिया गया है. इसके अलावा कैलास मानसरोवर यात्रा के छठे जत्‍थे को भी रोक दिया गया है. साथ्‍ज्ञ ही कैलास मानसरोवर यात्रा समेत अन्‍य धार्मिक यात्राओं में सावधानी बरतने की भी हिदायत दी गई है. मौसम विभाग के अनुसार बाद में आठ से 10 जुलाई के बीच भी भारी बारिश हो सकती है.

प्रदेश की राजधानी देहरादून में मंगलवार को भी तेज बारिश हुई है. मौसम विभाग ने मंगलवार को तेज बारिश का अनुमान जारी किया है. मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में अगले 24 घंटे में कुछ स्‍थानों पर बादल फटने की घटनाएं भी हो सकती हैं. इसके साथ ही भूस्‍खलन की भी चेतावनी जारी की गई है. मौसम विभाग की ओर से जारी अलर्ट के मुताबिक पिथौरागढ़, चंपावत, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर जिले में भारी बारिश की आशंका जताई गई है. वहीं उच्च पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही लगातार हो रही बारिश से चंपावत जिले की भारत-नेपाल सीमा पर बहने वाली शारदा नदी का जलस्तर भी अचानक बढ़ गया है. जिसको देखते हुए जिला प्रशासन के निर्देशन पर बैराज प्रबंधन द्वारा बैराज में रेड अलर्ट घोषित कर इंडो नेपाल सीमा में भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है.

वहीं शारदा बैराज में जारी रेड अलर्ट के बारे में उपजिलाधिकारी टनकपुर का कहना है कि पहाड़ों में बरसात के कारण शारदा नदी में भारी मात्रा में पानी की संभावनाएं बनी रहती हैं. जिस कारण शारदा बैराज में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है. वहीं मौसम विभाग की ओर से चारधाम यात्रा मार्ग पर भी अगले दो से तीन दिन तक हल्‍की और मध्‍यम बारिश होने का अनुमान जताया गया है. चारधाम यात्रा मार्ग पर भारी बारिश नहीं होगी. कुमाऊं में पिथौरागढ़ और मुनस्‍यारी में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है. मौसम विभाग और स्‍थानीय प्रशासन ने लोगों को अधिक सतर्कता बरतने के लिए कहा है.

भारी बारिश की चेतावनी को देखते हुए कैलास मानसरोवर यात्रा के छठे जत्थे को अल्मोड़ा में रोक दिया है. सोमवार देर शाम अल्मोड़ा पहुंचे कैलास मानसरोवर यात्रा के छठे दल को मंगलवार को तड़के पिथौरागढ़ की ओर रवाना होना था. लेकिन पिथौरागढ़ में भारी बारिश के अलर्ट को देखते हुए दल को अल्मोड़ा में रोक दिया है. कैलास मानसरोवर यात्रा के यात्री मौसम साफ होने का इंतजार कर रहे हैं ताकि यात्रा आगे की ओर बढ़ सके.

पिछले कुछ साल में शारदा नदी के उफान के चलते आई भीषण बाढ़ से जहां एक तरफ क्षेत्र में भारी तबाही मचाई थी. वहीं इस बार बैराज प्रबंधन ने एहतियातन तौर पर बनबसा में भारत-नेपाल सीमा को जोड़ने वाले ब्रिटिश कालीन शारदा बैराज में भारी मात्रा में पानी आने की संभावनाओं को देखते हुए हाईअलर्ट घोषित कर दिया है. जिसके चलते भारत नेपाल के बीच आवागमन पूरी तरह प्रभावित है.  शारदा बैराज पर भारी वाहनों का आवागमन पूरी तरह बंद कर दिया गया है.