वाशिंगटन. एफबीआई (FBI) ने चेतावनी दी है कि उसे खुफिया जानकारी मिली है कि सभी 50 अमेरिकी राज्यों की राजधानियों में और वाशिंगटन डीसी में सशस्त्र विरोध" (Armed Attack) की योजना बनाई जा रही है. नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) के 20 जनवरी को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में ट्रंप समर्थक चरमपंथियों द्वारा घातक हिंसा करवाए जाने की आशंकाएं जताई जा रही हैं. ट्रम्प समर्थकों और धुर दक्षिणपंथियों ने अपनी ऑनलाइन पोस्ट पर आने वाली कई तारीखों पर विरोध प्रदर्शन करना तय किया हैं. इन तारीखों में 17 जनवरी को देश भर के शहरों में सशस्त्र प्रदर्शन और राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह पर वाशिंगटन डीसी (Washington DC) में एक मार्च निकालने की भी बात कही जा रही है.

16-24 जनवरी के ​बीच सशस्त्र हमले की बनाई जा रही है योजना

सीएनएन और अन्य मीडिया आउटलेट द्वारा प्राप्त सूचनाओं के आधार पर निकाले एफबीआई ( Federal Bureau of Investigation) ने एक बुलेटिन में कहा है कि सभी 50 राज्यों की राजधानियों में 16 जनवरी से लेकर कम से कम 20 जनवरी तक और अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी में 17 जनवरी से 20 जनवरी तक सशस्त्र विरोध की योजना बनाई जा रही है. दिलचस्प बात यह है कि खुद ट्रम्प ने 24 जनवरी तक राष्ट्रीय राजधानी के लिए एक आपातकालीन घोषणा जारी की है. ट्रंप के अन्य समर्थक समूह भी 20 जनवरी को मिलियन मिलिशिया मार्च की योजना बना रहे हैं.

जो बाइडन और कमला हैरिस 20 जनवरी को लेंगे शपथ
20 जनवरी को जो बाइडन को संयुक्त राज्य अमेरिका के 46 वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ दिलाई जाएगी. बाइडन के साथ ही उपराष्ट्रपति के रूप में भारतीय मूल की कमला हैरिस को भी उपराष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई जाएगी. सोमवार को जो बाइडन ने कैपिटल बिल्डिंग के बाहर शपथ ग्रहण समारोह होने संबंधी एक प्रश्न के जवाब में कहा कि वे अमेरिकी संसद के बाहर शपथ ग्रहण से नहीं डरते.

वशिंगटन सिटी की सुरक्षा के लिए तैनात किए गए सुरक्षा बल
एफबीआई और अमेरिकी सुरक्षा और खुफिया एजेंसियां कैपिटल फेडरल और हिल में हुए दंगे के बाद कोई चूक नहीं करना चाहती. इस बीच शपथ ग्रहण समारोह से पहले में किसी भी तरह की अप्रिय घटना को रोकने के लिए वाशिंगटन डीसी को शहर को एक किले में परिवर्तित किया जा रहा है. पेंटागन ने राष्ट्रीय राजधानी में 15,000 से अधिक अतिरिक्त नेशनल गार्ड सैनिकों को तैनात करने की मंजूरी दी है. नेशनल गार्ड ब्यूरो के प्रमुख आर्मी जनरल डैनियल आर. होकनसन ने एक कॉन्फ्रेंस कॉल के दौरान संवाददाताओं को बताया कि सोमवार तक शहर में 6,000 राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड ही तैनात किए जा चुके हैं.
सीएनएन के अनुसार दंगाई कोलंबिया जिले में और हर राज्य में सरकारी कार्यालयों को अपना निशाना बनाने की योजना बना रहा है इसलिए राज्यों की विधानसभाओं की सुरक्षा भी बढ़ाई जा रही है.