नई दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र के यूको बैंक को चालू वित्त वर्ष की जून में समाप्त पहली तिमाही में 633.88 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है। हालांकि साल दर साल और तिमाही दर तिमाही आधार पर बैंक का घाटा कम हुआ है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 663.02 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था. वहीं 2017-18 की मार्च तिमाही में बैंक को 2,134,36 करोड रुपए का घाटा हुआ था। 

यूको बैंक की आय में हुआ इजाफा
शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी कुल आय बढ़कर 4,360.88 करोड़ रुपए पर पहुंच गई।जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 4,237.04 करोड़ रुपए थी। तिमाही के दौरान बैंक की सकल गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) 25.71 प्रतिशत पर पहुंच गईं। जो एक साल पहले समान तिमाही में 19.87 प्रतिशत थीं। मूल्य के हिसाब से यह 25,054.21 करोड़ रुपए से बढ़कर 29,786.41 करोड़ रुपए रहीं. बैंक का शुद्ध एनपीए 12.74 प्रतिशत या 12,558 करोड़ रुपए रहा।एक साल पहले समान तिमाही में यह 10.63 प्रतिशत या 12,010.95 करोड़ रुपए था।

यूनियन बैंक का शुद्ध लाभ 12 फीसदी बढ़ा
सार्वजनिक क्षेत्र के यूनियन बैंक आफ इंडिया का चालू वित्त वर्ष की जून में समाप्त पहली तिमाही का शुद्ध लाभ 12 प्रतिशत बढ़कर 130 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक ने 116.58 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी कुल आय बढ़कर 9,908.76 करोड़ रुपए पर पहुंच गई।जो एक साल पहले समान तिमाही में 9,567.69 करोड़ रुपए थी।

यूनियान बैंक की भी ब्याज आय बढ़ी
समीक्षाधीन अवधि में बैंक की ब्याज आय 8,112.10 करोड़ रुपए से बढ़कर 8,700.81 करोड़ रुपए पर पहुंच गई।बैंक ने कहा कि उसकी ब्याज आय में 274.43 करोड़ रुपए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण द्वारा मंजूर निपटान योजना के तहत एनपीए की वसूली से आए। तिमाही के दौरान बैंक की सकल गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) 16 प्रतिशत यानी 50,972.64 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। एक साल पहले यह 12.63 प्रतिशत यानी 37,286.33 करोड़ रुपए थीं। वहीं बैंक का शुद्ध एनपीए बढ़कर 8.70 प्रतिशत यानी 25,508.46 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।एक साल पहले यह आंकड़ा 7.47 प्रतिशत यानी 20,784.97 करोड़ रुपए था।