उदयपुर. वल्लभनगर के विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत (MLA Gajendra Singh Shaktawat) का पार्थिव शरीर गुरुवार को पंचतत्व में विलीन की जाएगा. सुबह 11 बजे बाद शक्तावत के पैतृक गांव भिंडर (Bhinder) में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. उदयपुर के न्यू फतेहपुरा स्थित निवास स्थान से शक्तावत की अंतिम यात्रा सुबह 8 बजे रवाना हुई है. शक्तावत की अंत्येष्टि के समय पूर्व पीसीसी चीफ सचिन पायलट (Sachin pilot) समेत कई मंत्री और नेता मौजूद रहेंगे.

गजेंद्र सिंह शक्तावत की पार्थिव देह को बुधवार देर रात उदयपुर स्थित उनके निवास स्थान पर लाया गया. कोरोना प्रोटोकॉल के चलते पार्थिव देह को एम्बुलेंस में ही रखा गया. रातभर शक्तावत के समर्थक और चाहने वाले उनके घर के बाहर ही बैठे रहे. लिवर की बीमारी के कारण विधायक शक्तावत का लंबे इलाज के बाद बुधवार को सुबह निधन हो गया था. इससे पहले वे कोरोना संक्रमित भी हो गये थे.

पायलट के बेहद करीबी माने जाते थे शक्तावत
गजेंद्र सिंह शक्तावत को सचिन पायलट का बेहद करीबी माना जाता था. सचिन पायलट के मुश्किल समय में गजेंद्र सिंह शक्तावत हमेशा उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहे थे. गजेंद्र सिंह शक्तावत के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट भी भिंडर स्थित उनके पैतृक निवास पर पहुंच रहे हैं. वे जयपुर से रवाना हो चुके हैं.
परिवार में पत्नी और तीन बच्चे

सचिन पायलट के अलावा विधायक पीआर मीणा, जीआर खटाना, सुरेश मोदी, इंद्राज गुर्जर, बृजेंद्र ओला, हरीश मीणा और मुरारी लाल मीणा उदयपुर पहुंच चुके हैं. अंत्येष्टि में शामिल होने के लिए राज्य सरकार की ओर से मंत्री रघु शर्मा, प्रताप सिंह खाचरियावास और अर्जुन बामणिया भी भिंडर पहुंच रहे हैं. गजेंद्र सिंह शक्तावत की पार्थिव देह को अंतिम दर्शनों के लिये उनके पैतृक गांव भिंडर में स्थित उनके फार्म हाउस पर रखा जाएगा. उसके बाद मोक्ष रथ में कोरोना प्रोटोकॉल की पालना के साथ अंतिम यात्रा मोक्ष धाम पर पहुंचेगी. वहां पार्थिव देह को पंचतत्व में विलीन कर दिया जाएगा. गजेंद्र सिंह शक्तावत के परिवार में उनकी पत्नी प्रीति शक्तावत के अलावा दो बेटियां और एक पुत्र हैं. देहात जिलाध्यक्ष लाल सिंह झाला सहित कई कांग्रेसी कार्यकर्ता अंतिम यात्रा में शरीक हो रहे हैं.