धौलपुर, दान और पुण्य के महापर्व मकर संक्रांति को लेकर धौलपुर शहर के बाजारों में मंदिरों में आज भी खासी रौनक रही। शहर के मंदिरो में महिलाओं ने तिल मिश्रित खाद्य और सुहाग सामग्री सहित बारह प्रकार की वस्तुएं दान की और लोगो चम्बल नदी सहित तीर्थराज मचकुंड में स्नान कर पुण्य प्राप्त किया। वहीं महिलाओं ने मारकंडेय मंदिर जाकर दान-पुण्य कर परिवारिजनों के लिए दीर्घायु की कामना भी की। मान्यता है कि इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है और उत्तरायण हो जाता है।

उत्तरायण को सकारात्मकता का प्रतीक माना गया है। मकर संक्रांति पर सूर्य की राशि में हुआ परिवर्तन अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर होने का द्योतक है। प्रकाश अधिक होने से प्राणियों की चेतना एवं कार्यशक्ति में वृद्धि होती है, इसलिए पूरे भारत में इस अवसर पर लोग विविध रूपों में सूर्य की उपासना करते हैं। इसी के साथ इस दिन अन्न की पूजा होती है और प्रार्थना की जाती है कि हर साल इसी तरह हर घर में अन्न-धन भरा रहे। इसी के साथ हर कोई इस पर्व को अपने रीति-रिवाजों के अनुसार मनाता है।