विश्व हिंदू परिषद (VHP) के पूर्व अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया मोदी सरकार पर दबाव बनाने की पूरी तैयारी में हैं। वह अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर मंगलवार से अनिश्चितकालीन उपवास रखेंगे। उन्होंने विहिप के नए अध्यक्ष कोकजो को भी उपवास में शामिल होने का आग्रह करते हुए कहा है कि या तो वह इस उपवास में शामिल हों या संसद में राम मंदिर निर्माण के लिए विधेयक लाने का दबाव बनाएं। तोगड़िया ने कहा कि विहिप ने कहा था कि एक बार हम (संघ परिवार) संसद में आएंगे तो हम विधेयक पास कर राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेंगे। परिषद ने अयोध्या में लोगों से कार सेवा करने के लिए शहादत देने को कहा था। इसके लिए करीब 60 लोगों ने अपनी शहादत भी दी और साथ ही गुजरात के हजारों लोगों ने भी योगदान दिया। 

तोगड़िया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पांच दिनों के विदेश दौरे पर हमला बोलते हुए कहा कि पीएम ऐसे समय में विदेश जा रहे हैं जब देश की सीमाओं पर सैनिक सुरक्षित नहीं हैं, किसान खुदखुशी कर रहे हैं, हमारी बेटियां हमारे घरों में सुरक्षित नहीं हैं और हमारे प्रधानमंत्री विदेश दौरे पर गए हैं। 

बता दें तोगड़िया 32 सालों तक परिषद के अध्यक्ष रह चुके हैं। लेकिन उन्हें परिषद की टीम में कोई नया दायित्व नहीं मिला है। उन्होंने हिमाचल प्रदेश के पूर्व गवर्नर वीएस कोकजे के विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद संगठन से इस्तिफा दे दिया था। उन्हें समर्थन देते हुए विहिप के 5,000 जिला स्तरीय कार्यकर्ताओं ने भी संगठन छोड़ दिया।

वहीं तोगड़िया का खुलकर समर्थन करने वाले विहिप गुजरात के प्रवक्ता का कहना है कि राज्य की पूरी इकाई इस तेजतर्रार नेता के साथ खड़ी है।