जयपुर:राजस्थान विधानसभा चुनाव में एक ओर जहां सत्तारूढ़ भाजपा सरकार अपनी सत्ता बर​करार रखने के प्रयासों में जुटी है, वहीं दूसरी ओर प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस और अन्य कई दल भी तीसरा मोर्चा होने का दावा करते हुए चुनावी ताल ठोक रहे हैं। इस बीच सत्ता हासिल करने के प्रयासों में गठबंधन की भी कवायदें जारी है। चुनाव में जीत हासिल कर सत्ता में काबिज होने के प्रयास में आम आदमी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन की चर्चाएं भी सामने आई, लेकिन अब सुनने में आ रहा है कि दोनों ने अपनी राहें अलग कर ली है। ऐसे में दोनों दलों के गठबंधन से तीसरे मोर्चे पर विराम लगता दिख रहा है।

सूत्रों के मुताबिक, राजस्थान विधानसभा चुनाव में जीत हासिल कर सत्ता की चाबी अपने हाथो में लेने के लिए आप एवं बसपा के गठबंधन की चर्चाओं पर अब विराम लगता नजर आ रहा है। बताया जा रहा है कि आप एवं बसपा अब अलग अलग राह पर चल पड़े हैं, जिसके चलते दोनों दलों द्वारा बनाए जाने वाला तीसरा मोर्चा अटक गया है। 

बता दें कि चुनावी मैदान में दोनों ही दलों ने अपने-अपने चुनावी योद्धा उतारे हैं और अब धीरे-धीरे प्रदेश की चुनावी तस्वीर साफ होती जा रही है। फिलहाल दोनों के साथ आने की दूर-दूर तक कोई संभावना नहीं दिख रही है। लेकिन फिर भी ये राजनीति है, जिसमें किसी भी पल कुछ भी अनूठा हो सकता है। क्योंकि राजनीति में न तो कुछ संभव होता है और न ही कुछ असंभव।