इस्लामाबाद, पाकिस्तान के गृहमंत्री अहसन इकबाल ने दावा किया कि उनके देश के प्रति चीनी नीति में कोई बदलाव नहीं हुआ है। इकबाल ने यहां एक वक्तव्य में इस संबंध में आई मीडिया रिपोर्टों को साफ खारिज कर दिया। गौरतलब है कि चीन के शियामेन में हुए ब्रिक्स सम्मेलन के बाद जारी घोषणापत्र के हवाले से आई मीडिया रिपोर्टों में कहा गया था कि पाकिस्तान के प्रति चीनी की नीति एक समान नहीं रही।

इस महीने के शुरू में ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के नेताओं ने ब्रिक्स समूह के सम्मेलन में पाकिस्तान में आधारित आतंकवादियों के समूहों को नाम लेते हुए उन्हें क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए चिंता का विषय बताया और उनके संरक्षकों को सजा दिलाने की मांग की थी। गृह मंत्री ने कहा कि चीन ने उसी रुख को अपनाया जो उसने भारत में हुई हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन के घोषणापत्र में व्यक्त किया गया था। उन्होंने कहा, इसी प्रकार जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान की आलोचना की, न केवल चीन और रूस, बल्कि संयुक्त राष्ट्र के थिंक टैंकों ने भी कहा कि पाकिस्तान के सहयोग के बिना अफगानिस्तान में शांति सुनिश्चित नहीं की जा सकती है।