इंटरनेट डेस्क, मेक्सिको सिटी के दक्षिण में जोचिमिको कनाल में एक छोटा सा द्वीप है। यह द्वीप ला इस्ला डे ला म्यूनेकस नाम से मशहूर है। भले ही ये पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है, लेकिन बिना गाइड यहां घूम पाना नामुमकिन है। आपको बता दें कि एक समय मेक्सिको का डॉल्स आइलैंड बेहद खूबसूरत जगह हुआ करती थी। जिसे देखने के लिए दूर-दूर से पर्यटक आते थे, लेकिन आज यहां पर गुड़ियों का बसेरा है।

सरकारी दस्तावेजों में इसे हॉन्टेड करार नहीं दिया गया है लेकिन यहां के स्थानीय नागरिक बताते हैं कि पेड़ों पर लटकी दर्जनों गुड़िया आपस में बातें करती हैं। आपको बता दें कि ये द्वीप हमेशा से ऐसा नहीं था, करीबन डेढ़ दशक पहले ये साधारण द्वीप हुआ करता था। लोगों के मुताबिक, एक छोटी बच्ची की रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई थी, डॉन जूलियन सैन्टाना बरेरा 2001 तक इस द्वीप का केयर टेकर था।

वह इस जगह अकेले रहते थे, उसकी मौत के बाद से ये हॉन्टेड जगह बन गई। बताया जाता है कि जूलियन को एक बच्ची की तैरती हुई लाश मिली थी। तब उसकी सांसे चल रही थी लेकिन जूलियन उसे बचा पाने में नाकाम रहे। कहते हैं बच्ची की मौत के बाद एक गुड़िया भी बहती हुई आई। जूलियन ने इसे बच्ची की गुड़िया समझ उसे उसी पेड़ पर लटका दिया, जहां बच्ची ने दम तोड़ा था। उसे एक के बाद एक कई गुड़िया मिलती चली गई।

वह बच्ची के आत्मा की शांति के लिए उसे पेड़ पर लटकाते गए हालांकि, लोगों का मानना है कि जूलियन को उस बच्ची को बचा नहीं पाने का पछतावा था। वहीं आज यहां पर ढेरों गुडिया पेड़ों पर लटकती हुई दिखाई देती हैं। अगर आपको डरावनी जगहों को देखने को शौक है तो आप यहां जा सकते हैं।