मुंबई, नोटबंदी के बाद जारी नए नोटों की छपाई में खामियों को लेकर कांग्रेस के निशाने पर आए रिजर्व बैंक ने आज कहा कि वह नोटों की छपाई में दुनियाभर में अपनाई जाने वाली सबसे बेहतर तौर तरीकों को अपना रहा है और नोटों की गुणवत्ता स्वीकार्य मानकों के दायरे में है। केन्द्रीय बैंक ने कहा है कि नोट की छपाई करने वाले उसके कारखाने आधुनिक तकनीक वाली मशीनों से लैस हैं और इनमें काम करने वाले लोग भी तकनीकी रूप से काफी सक्षम है। इन छपाई खानों में बैंक नोट की हर स्तर पर गुणवत्ता की जांच होती है।

केन्द्रीय बैंक का यह बयान इस संदर्भ में काफी अहमियत रखता है कि आठ अगस्त को कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि नोटबंदी के बाद जारी किए गए 500 और 2,000 रुपए के अलग अलग तरह के नोट छापे जा रहे हैं। इससे भारतीय मुद्रा की साख गिर रही है। विपक्षी पार्टी ने कहा था कि उच्च मूल्य वर्ग के इन नोटों में खामियां उनके आकार, डिजाइन और दूसरे मानक में भिन्नता के रूप में हैं।