पाली:देश काे आजाद हुए 73 साल बीत गए, लेकिन गांवाें में आज भी अपराधी प्रवृत्ति के लाेग भाेले-भाले लाेगाें पर जुल्म कर रहे हैं। पाली जिले के गुड़ा एंदला थाना क्षेत्र के मणिहारी गांव में एक बार फिर हार्डकाेर कुख्यात अपराधी जबरसिंह ने गांव के तीन ग्रामीणाें काे झांसे में लेकर अपने क्रेशर के अड्डे पर बुलाया।

वहां अपने गुर्गाें से तीनाें लाेगाें की बेरहमी से न केवल पिटाई की, बल्कि उनके गुप्तांगाें में लकड़ियां डाल जुल्म का शिकार बनाया। इन तीनाें लाेगाें काे आराेपियाें ने बंधक बनाकर रखा और बारी-बारी से उनके साथ मारपीट की अधमरा किया।

घायलावस्था में मिन्नतें कर किसी तरह तीनाें लाेगाें ने वहां से किसी तरह से भाग कर जान बचाई। तीनाें पीड़ित लाेगाें काे लेकर परिवार के सदस्य साेमवार काे एसपी राहुल काेटाेकी के समक्ष पेश हुए और घटना की जानकारी दी। एसपी ने मामले काे गंभीरता से लेते हुए तीनाें पीड़िताें की ओर से तीन मुकदमे दर्ज करने के निर्देश दिए, जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और आराेपियाें की धरपकड़ के लिए टीमें गठित की। पुलिस के सक्रिय हाेते हुए आराेपी जबरसिंह समेत अन्य आराेपी अपने ठिकानाें से गायब हाे गए, जिनकाे पकड़ने के लिए देर रात तक टीमें लगी हुई थी।

चुनावी रंजिश का बदला, पूर्व उप सरपंच से फाेन करवा बुलाया, अड्डे पर बंधक बना मारपीट की
पुलिस के अनुसार मणिहारी गांव में सरपंच चुनाव में इस बार भैरुसिंह शेखावत विजयी हुए, जबकि हार्डकाेर अपराधी ने अपना उम्मीदवार खड़ा किया था। चुनाव में गांव का घीसाराम प्रजापत, बालाराम प्रजापत व घीसाराम सुथार व उसका भाई शंकर सुथार भैरुसिंह शेखावत के समर्थन में थे।

आराेपी जबरसिंह इन तीनाें लाेगाें से नाराज था, जिसके चलते उसने 12 सिंतबर काे सुबह पूर्व उप सरपंच गिरधारी प्रजापत से फाेन कर दयालपुरा-रुपावास सरहद में अपने क्रेशर पर तीनाें लाेगाें काे बुलवाया। वहां पहुंचते ही जबरसिंह के कहने पर उसके बाॅडीगार्ड गिरधारीसिंह समेत पांच-सात लाेगाें ने घीसाराम प्रजापत, बालाराम प्रजापत व घीसाराम सुथार के साथ बेरहमी से मारपीट की।

दिनभर मारपीट करते रहे, अमानवीय यातनाएं देते रहे आराेपी
पीड़ित तीनाें लाेगाें ने रिपाेर्ट में बताया कि आराेपी जबरसिंह ने अपने क्रेशर पर एक हाॅल बना रखा है, जहां ले जाकर आराेपियाें ने सुबह से लेकर दाेपहर बाद तक उनके साथ मारपीट की। आराेपियाें ने मारपीट के दाैरान उनकाे अमानवीय यातानाएं दी और गुप्तांगाें में लकड़ियां डाली। इससे उनके गुप्तांगाें में गहरी चाेटें आई और चाेटाें के गहरे निशान बन गए।

हत्या, लूट, हथियार व शराब तस्करी जैसे 77 मामले दर्ज
गुड़ा एंदला थाना क्षेत्र के हिस्ट्रीशीटर मणिहारी गांव के आराेपी जबरसिंह पुत्र जयसिंह राजपूत के खिलाफ अब तक हत्या, लूट, डकैती, हथियार व शराब तस्करी, पुलिस दल पर हमला, मारपीट जैसे 77 मामले दर्ज है। राजस्थान पुलिस ने इस आराेपी काे राज्य के हार्डकाेर अपराधी की सूची में ले रखा है, जिसे जम्मू कश्मीर से हथियार तस्करी के मामले में भी एटीएस-एसओजी ने नामजद कर रखा है।

आराेपी ने मणिहारी गांव के आसपास इलाके में अवैध रुप से खनन कर क्रेशर भी लगा रखा है, जहां अपराधिक प्रवृति के लाेगाें का जमावड़ा रहता है। साेमवार काे एसपी के समक्ष पेश हुए पीड़ित पक्षाें ने आराेप लगाया कि गुड़ा एंदला थाना पुलिस से आराेपी के कथित सांठगांठ है, जिसके चलते आराेपी आए दिन अपराध करते है।

जुल्म करने वालाें के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई हाेगी : एसपी

  • मणिहारी गांव के पीड़ित पक्ष ने साेमवार काे मुझसे मिलकर पूरा घटनाक्रम बताया। आराेपियाें की धरपकड़ के लिए विशेष टीमें गठित की गई है। सीओ ग्रामीण श्रवणदास संत काे पूरे प्रकरण की जांच करने काे कहा गया है। आराेपियाें के खिलाफ दाे मुकदमे सदर थाना व एक मुकदमा गुड़ा एंदला थाने में दर्ज किया है। पुलिस किसी भी हाल में अपराध करने वालाें काे नहीं बख्शेगी।

हार्डकाेर अपराधी जबरसिंह के पुराने अपराध का रिकाॅर्ड भी मंगाया है, जिसके बाद उसके खिलाफ निराेधात्मक कार्रवाई की जाएगी। लाेगाें काे डरने की जरूरत नहीं है, यदि उनके आसपास काेई अपराधी किस्म का व्यक्ति अवांछनीय गतिविधियां करता है ताे तुरंत ही पुलिस काे बताएं, ताकि उनके खिलाफ प्रभावी कार्रवाई की जा सके। - राहुल काेटाेकी, एसपी पाली