नई दिल्ली, सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले की सुनवाई करने वाले सीबीआई जज बीएच लोया की संदिग्ध मौत मामले में सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से पोस्टमार्टम रिपोर्ट मांगी है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को जस्टिस लोया की मौत की जांच की मांग वाली याचिका की सुनवाई करते हुए मामले को गंभीर बताया है। साथ ही कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को पोस्टमार्टम रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया। अब इस मामले में शीर्ष अदालत में सोमवार को अगली सुनवाई होगी।

आपको बता दें कि गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई पर सहमति जताते हुए शुक्रवार की तारीख तय की थी। जस्टिस लोया सीबीआई के स्पेशल कोर्ट में सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले को देख रहे थे। इस हाई प्रोफाइल केस में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत गुजरात के कई बड़े अधिकारी नामजद थे। आपको बता दें कि जज लोया की मौत 1 दिसंबर 2014 को नागपुर में हुई थी, जिसकी वजह दिल का दौरा पडऩा बताया गया था। वे नागपुर अपनी सहयोगी जज स्वप्ना जोशी की बेटी की शादी में गए हुए थे।

बृजगोपाल लोया के परिजनों से हुई बातचीत का हवाला देते हुए नवंबर 2017 में द कारवां पत्रिका में प्रकाशित हुई एक रिपोर्ट में लोया की मौत की संदेहास्पद परिस्थितियों पर सवाल उठाए गए थे, जिसके बाद यह मामला फिर से चर्चा में आया था। इस पत्रिका की रिपोर्ट के बाद पूर्व न्यायाधीशों द्वारा इस मामले की जांच की मांग की गई थी। दिसंबर महीने में बॉम्बे लॉयर्स एसोसिएशन द्वारा भी बॉम्बे हाईकोर्ट में लोया की मौत पर जनहित याचिका दायर कर जांच की मांग की गयी थी, साथ ही एक नागरिक समूह ने भी आयोग बनाकर जज लोया की मौत की जांच की मांग उठाई थी।