नई दिल्ली:दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन ने अक्षरधाम मंदिर के दर्शन के साथ रविवार को अपनी भारत यात्रा की शुरुआत की. उन्होंने कहा कि दोनों देशों की संस्कृति भले ही अलग है, लेकिन वे शांति , सौहार्द और अनेकता में एकता के समान मूल्यों को साझा करते हैं.

राष्ट्रपति अपनी पत्नी किम जंग सूक के साथ दिल्ली हवाईअड्डे से रविवार शाम आलीशान अक्षरधाम मंदिर परिसर पहुंचे. उन्होंने वहां एक घंटा बिताया. उन्होंने मंदिर के शानदार वास्तुशिल्प की सराहना की और इसके डिजाइन के पीछे की कहानियां सुनीं.

दोनों गणमान्य अतिथियों ने मंदिर के खूबसूरत भारत उपवन के जरिए मंदिर परिसर में प्रवेश किया और मयूर स्वागत द्वार पर साधु ज्ञानमुनिदास ने उन्हें माला पहनाकर, टीका लगाकर और कलाई पर कलावा बांधकर उनका स्वागत किया.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे - इन भारत की पहली राजकीय यात्रा पर दिल्ली पहुंचे हैं. इस दौरान वह कोरियाई प्रायद्वीप की स्थिति तथा व्यापार एवं रक्षा सहयोग बढ़ाने के तौर तरीके जैसे अहम मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बातचीत करेंगे. मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि विदेश राज्यमंत्री वी के सिंह ने उनकी अगवानी की. दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति प्रधानमंत्री मोदी के साथ सोमवार को गांधी स्मृति जाएंगे. पीएम मोदी ने मई , 2015 में दक्षिण कोरिया की यात्रा की थी.

अपनी चार दिवसीय यात्रा के दौरान मून मंगलवार को मोदी से बातचीत करेंगे. भारत को उम्मीद है कि इस यात्रा से खासकर आर्थिक क्षेत्र में द्विपक्षीय साझेदारी के विस्तार के नये रास्ते खुलेंगे. इस यात्रा से पहले सोल में मून के कार्यालय के एक प्रवक्ता ने कहा था कि नेता दोनों देशों के बीच भविष्योन्मुखी सहयोग के विस्तार पर ध्यान केंद्रित करेंगे.

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के सोमवार को उनसे मिलने की संभावना है. इस यात्रा के दौरान मून राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भी मिलेंगे जो उनके सम्मान में भोज देंगे.