अयोध्या:इस बार अयोध्या में दिवाली पर भव्य आयोजन किया जा रहा है। इसमें उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित दक्षिण कोरिया की पहली महिला किंग जोंग सुक भी शामिल होंगी। इस दिवाली के मौके पर अयोध्या के सरयु तट को 3 लाख दीयों से सजाया जाएगा। इस पर्व में यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ और बिहार के राज्यपाल भी मौजूद रहेंगे। मालूम हो इस कार्यक्रम में दक्षिण कोरिया की फर्स्ट लेडी किंगजोंग सुक इस पर्व की खास मेहमान होंगी। सवाल है कि किंग हुक ही क्यों? तो आइए जानते है इसके पीछे की वजह जिसका इतिहास 2000 साल पुराना है।

सबसे दिलचस्प बात है कि दक्षिण कोरिया की रानी सूरीरत्न अयोध्या की रहने वाली थीं। आज से करीब 2000 साल पहले उन्होंने कोरिया की यात्रा की थी। इस यात्रा के दौरान सूरीरत्न ने कोरिया के राजा किम सूरो से विवाह किया था। विवाह के बाद सूरीरत्न ने अपना नाम बदलकर हिव ह्वांग ओक रख लिया था। इतिहासकारों के अनुसार राजकुमारी सूरीरत्न 48ईस्वी में कोरिया की यात्रा पर गई थीं। वहां रानी ने एक स्थानीय राजा से विवाह कर कराक राजवंश की स्थापना की।

अब अपनी रानी की याद में दक्षिण कोरिया की सरकार अयोध्या में एक स्मारक बनवाना चाहती है बतादें कोरियाई सरकार ने साल 2000 में अयोध्या और गिमहेई हर को सिस्टर सिटीज के रूप में विकसित करने का समझौता किया था। वर्ष 2001 में कोरिया के करीब 100 इतिहासकारों और सराकरी कर्मचारियों ने अयोध्या में सरयू नदीं के पश्चिमी तट पर महारीन सुरीरत्न के स्मारक का शिलान्यास किया था। साल 2016 में एक मीटिंग में कोरिया सरकार ने यूपी सरकार को इस स्मारक को और ज्यादा विकसित करन के प्रस्ताव दिया था। इसी प्रजोक्ट के भूमि पूजन के लिए अयोध्या दीपोत्सव कार्यक्रम में दक्षिण कोरिया की फर्स्ट लेड़ी को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है।