लखनऊ. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) गुरुवार को सीतापुर पहुंचे. यहां उन्होंने सीधे सीतापुर जेल में जाकर रामपुर के सपा सांसद आजम खान, उनके बेटे अब्दुल्ला आजम और पत्नी व सपा विधायक तजीन फातमा से मुलाकात की. मुलाकात के बाद सीतापुर जेल के बाहर अखिलेश यादव ने कहा कि आजम खान को न्यायालय से इंसाफ मिलेगा. ये राजनीतिक षड्यंत्र है, जिसके तहत आजम खान को जेल में रहना पड़ रहा है. अखिलेश ने कहा कि बदले की भावना से कार्रवाई नहीं होनी चाहिए.

वहीं दिल्ली हिंसा पर अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार दिल्ली के दंगे नहीं रोक पाई. भारतीय जनता पार्टी समाज को बांटकर राजनीति करती है. सीएम योगी पर हमला करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि सदन में मुख्यमंत्री की भाषा को मर्यादित नहीं कहा जा सकता.

बता दें कि इससे पहले अखिलेश यादव का रामपुर जाने का कार्यक्रम रद्द हो गया था. दरअसल, बुधवार को आजम खान के साथ उनके बेटे अब्दुल्ला और पत्नी और सपा विधायक तजीन फातमा को फर्जी जन्म प्रमाणपत्र मामले में जेल भेज दिया गया. उन्हें देर शाम रामपुर जेल ले जाया गया. इसके बाद से सपा प्रमुख अखिलेश यादव का रामपुर दौरा तय हुआ. माना जा रहा था कि आजम खान से जेल में मिलने ही अखिलेश यादव रामपुर जाने वाले थे. गुरुवार को आजम और उनके परिवार के सीतापुर जेल में शिफ्ट होने के बाद अखिलेश का ये रामपुर दौरा रद्द हो गया.

भड़के आजम खान

सपा सांसद आजम खान, उनकी पत्नी तजीन फातमा और बेटे अब्दुल्ला को गुरुवार को रामपुर से सीतापुर जेल शिफ्ट कर दिया गया. इस दौरान सीतापुर जेल पहुंचने पर पत्रकारों के सवाल के जवाब में आजम खान ने कहा कि पूरा देश जानता है क्या हो रहा है? किसी से कुछ छुपा नहीं है. दरअसल, आजम खान से जब पूछा गया कि आपको क्या लगता है? आप पर जो कार्रवाई हुई है, उस पर आपको क्या कहना है? आजम खान ने कहा कि पूरा देश जानता है क्या हो रहा है? किसी से कुछ छुपा नहीं है.

जब उनसे पूछा गया कि क्या सरकार आपके साथ ऐसा कर रही है? इस पर आजम खान बोले कि और कौन कर रहा है? वहीं, एक पत्रकार ने जब ये पूछा कि क्या इसके पीछे आप मुख्यमंत्री को दोषी मानते हैं? इस पर आजम खान ने कहा कि एक दो हों तो बताएं.

गुरुवार तड़के सीतापुर जेल किया गया शिफ्टबता दें कि गुरुवार तड़के आजम, अब्दुल्ला और तजीन को सीतापुर जेल में शिफ्ट कर दिया गया. दरअसल, रामपुर के एसपी ने कोर्ट से गुहार लगाई थी कि रामपुर जेल में आजम और उनके परिवार को रखने पर कानून-व्यवस्था गड़बड़ा सकती है, लिहाजा उन्हें बरेली या किसी अन्य जेल शिफ्ट किया जाए. इसके बाद 27 फरवरी को तड़के कड़ी सुरक्षा के बीच उन्‍हें सीतापुर जेल शिफ्ट किया गया. सीतापुर के जेल अधीक्षक डीसी मिश्रा ने इस बात की पुष्टि की.