स्वयंभू धार्मिक गुरु आशु भाई उर्फ आसिफ खान को तीन दिन के लिए पुलिस कस्टडी में भेजा गया है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने गुरुवार रात आरोपी को कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद कोर्ट ने उसे तीन की पुलिस कस्टडी में सौंप दिया है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच अब आरोपी आशु भाई और उसके ठिकानों के बारे में पूछताछ करेगी।

दक्षिणी दिल्ली में आश्रम चला रहे स्वयंभू बाबा आशुजी के खिलाफ पुलिस ने बलात्कार और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था। आशु गुरुदेव के आश्रम जाने वाली एक महिला ने गैंगरेप और उसकी नाबालिग बच्ची के साथ अप्राकृतिक यौनाचार का आरोप लगाया है।

पीड़ित महिला ने आरोप लगाया कि वह आशु गुरु को साल 2008 से जानती है। 2002 में महिला की बेटी का जन्म हुआ था और जन्म के बाद से ही उसकी बेटी के पैर में दर्द रहता था। उसी का इलाज कराने के लिए साल 2006 में आशु गुरुदेव के पास गई थी।

आशु रोहिणी स्थित अपने आश्रम में महिला और उसकी बच्ची को बुलाते थे। महिला ने बताया कि जब उनकी बेटी छह साल की थी, तभी उपचार के नाम पर आशु उसे आश्रम में बुलाता था और बच्ची के सारे कपड़े उतारकर मालिश करता था। उस वक्त तो बच्ची छोटी थी इसलिए शक नहीं हुआ, लेकिन उसके बड़े होने के बावजूद भी ये सिलसिला जारी रहा तो उन्हें बात खटकने लगी।

जब महिला ने इसका विरोध किया तो साल 2016 में आशु के बेटे समर और उसके दोस्त सौरभ ने महिला के साथ अप्राकृतिक यौनाचार किया। इस बात की शिकायत उसने आशु से की, लेकिन इसके बाद भी बाप-बेटे साथ मिलकर यौन शोषण करते रहे। 2017 में आशु ने महिला की बेटी को ज़बरदस्ती आश्रम में बुलवाया और यौन उत्पीड़न किया। फिलहाल हौजखास पुलिस ने आईपीसी की धारा 376डी/354/506 और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की है।