झालाना स्थित स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एडं फेमिली वेलफेयर (सीफू)के रजिस्ट्रार डाॅ. आदित्य अत्रे काे एसीबी ने 50 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया। डाॅ. अत्रे कैंटीन संचालक से बिल का भुगतान करने के लिए पैसे मांगे थे। कैंटीन संचालक जगतपुरा निवासी पवन कुमार ने दाे माह पहले एसीबी में शिकायत की थी।

साेमवार काे परिवादी बिल पास करवाने के लिए रिश्वत की राशि लेकर गया तभी एसीबी ने ट्रेप कर लिया। आदित्य अत्रे का ऑफिस एसीबी कार्यालय से कुछ मीटर दूरी पर ही है। एसीबी एडीजी एमएन दिनेश ने बताया ट्रेप के बाद डाॅ.आदित्य अत्रे के वैशाली नगर स्थित आवास की तलाशी ली।

एसीबी ने पिछले साल 12 नवंबर काे सत्यापन भी कर लिया मगर रजिस्ट्रार ने केंटीन संचालक से काेई बात नहीं की। जैसे ही कैंटीन संचालक से रजिस्ट्रार ने राशि ली एसीबी ने दबाेच लिया। रजिस्ट्रार से 50 हजार रुपए बरामद कर लिए। रजिस्ट्रार के घर से मिले दस्तावेजों की एसीबी जांच कर रही है।

उप आवासन मंडल में पैसे लेते हुए दलाल पकड़ा
एसीबी ने उप आवासन मंडल वृत प्रथम जयपुर के अधिकारियाें के लिए सात हजार रुपए रिश्वत लेते दलाल केदार शर्मा काे पकड़ लिया। मक्खन लाल गुप्ता ने पत्नी के नाम से आवासन मंडल का एचआईजी आवास खरीदा है। रजिस्ट्री माेहन लाल जांगिड़ से करवाई थी। प्लाट काे स्थानांतरण करवाना था। इसकी एवज में आरेापी केदार प्रसाद शर्मा अधिकारियाें के नाम पर पैसे वसूल रहा था।