पिछले लंबे समय से अपनी मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे रोडवेज कर्मचारी गुरुवार से सिंधी कैंप बस स्टैंड पर अनिश्चितकालीन हडताल पर बैठ गए हैं। 18 सूत्री मांगों को लेकर सरकार से लगातार गुहार लगाने के बाद भी सकारात्मक परिणाम सामने नहीं आने पर कर्मचारियों ने क्रमिक अनशन के बाद अब आर-पार की लड़ाई शुरू कर दी है।

कर्मचारी सिंधी कैंप के मुख्य द्वार पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठ चुके हैं। कर्मचारियों का कहना है कि सरकार लंबे समय से केवल आश्वासन ही दे रही है, लेकिन नतीजा वही ढा़क के तीन पात वाला है। राजस्थान परिवहन निगम कर्मचारी फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष नाहर सिंह राजावत का कहना है कि उनकी मुख्य मांगों में राज्य सरकार के अनुरूप वेतनमान समेत रिटायर हो चुके कर्मचारियों को उनका बकाया ब्याज़ के साथ देने की है।

इस बार नहीं करेंगे समझौता
बकौल राजावत इसके साथ ही मांगों में नई बसों की खरीद, नई कर्मचारियों की भर्ती और राजस्थान परिवहन निगम का पूरी तरह सरकारीकरण शामिल है। उन्होंने बताया कि अगर सरकार अब भी उनकी मांगों को मानती है तो वो आंदोलन समाप्त कर देंगे, लेकिन इस बार समझौता नहीं करेंगे।