नई दिल्ली:अक्टूबर में खुदरा महंगाई दर (रिटेल) घटकर 3.31% रह गई। यह एक साल में सबसे कम है। इससे पहले सितंबर 2017 में यह 3.28% थी। इस साल सितंबर में खुदरा महंगाई 3.77% थी। खाने-पीने की वस्तुएं सस्ती होने से महंगाई दर में कमी आई। 

खाद्य महंगाई दर 0.5% (सितंबर) के मुकाबले अक्टूबर में -0.86% रही। सब्जियों की महंगाई दर अक्टूबर में 8.06% कम हुई। सितंबर में यह 4.15% कम हुई थी। फलों की महंगाई अक्टूबर में 0.35% कम हुई। इस दौरान दालें, अंडे और दूध जैसी प्रोटीन वाली वस्तुएं भी सस्ती हुईं। 

अप्रैल-सितंबर में औसत महंगाई दर 4.4% रही 

ईंधन और बिजली की महंगाई दर में इजाफा हुआ है। यह अक्टूबर में 8.55% रही। पिछले महीने 8.47% रही थी। चालू वित्त वर्ष (2018-19) की पहली छमाही में रिटेल महंगाई दर औसत 4.4% रही।अगस्त में खुदरा महंगाई दर 3.69% रही थी। सितंबर और अक्टूबर में रिजर्व बैंक के 4% के लक्ष्य से नीचे है। आरबीआई ब्याज दरें तय करते वक्त खुदरा महंगाई को ही ध्यान में रखता है। दुनिया के ज्यादातर देशों में खुदरा महंगाई के आधार पर ही मौद्रिक नीतियां बनाई जाती हैं।