जयपुर में सोमवार को दिनदहाड़े आरएएस अफसर की बहन को बंधक बनाकर घर में हत्या कर दी गई। यह वारदात सुबह करीब 8:30 बजे हुई। इसके बाद करीब छह घंटों के भीतर पुलिस ने पड़ौस में रहने वाले संदिग्ध युवक को हिरासत में ले लिया। गहनता से हुई पूछताछ में युवक ने खुलासा किया कि आज सुबह कॉलोनी में कुत्ता घुमाते वक्त उसका पड़ोस में रहने वाली 55 वर्षीय विद्या देवी से कहासुनी हुई थी। वह अक्सर उसे टोकती थी।

आरएएस अफसर की बहन की गला घोंटकर हत्या करने पर गिरफ्तार कृष्ण कुमार शर्मा महज 20 साल का है। 12 वीं कक्षा में पढ़ता है। पूछताछ में बताया कि अक्सर कॉलोनी में कुत्ता घुमाने पर टोकने से नाराज रहता था। सोमवार को भी कहासुनी हुई तो बदला लेने के लिए मार डाला

आरएएस अफसर की बहन की गला घोंटकर हत्या करने पर गिरफ्तार कृष्ण कुमार शर्मा महज 20 साल का है। 12 वीं कक्षा में पढ़ता है। पूछताछ में बताया कि अक्सर कॉलोनी में कुत्ता घुमाने पर टोकने से नाराज रहता था। सोमवार को भी कहासुनी हुई तो बदला लेने के लिए मार डाला

इसका बदला लेने के लिए 20 वर्षीय पड़ोसी कृष्ण कुमार ने घर में घुसकर विद्या देवी की गला घोंटकर हत्या कर दी। वारदात के बाद उसने पुलिस को गुमराह करने के लिए लूट की घटना दिखाने के लिए विद्या देवी के हाथ-पैर बांध दिए। उनके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। घर में रखी चुन्नियों से रेलिंग के बांधकर भाग निकला और उनका मोबाइल फोन व अन्य कीमती सामान पार कर लिया। तब शिप्रापथ थाना पुलिस ने कृष्ण कुमार को गिरफ्तार कर लिया। सोमवार रात 9 बजे प्रेस कॉफ्रेंस कर एडिशनल पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा ने पूरी घटना का खुलासा किया।

एडिशनल कमिश्नर लांबा के मुताबिक मृतका का नाम विद्या देवी (55) था। वह जयपुर में सरकारी स्कूल में टीचर थीं। वे शिप्रापथ इलाके के सेक्टर-23 स्थित घर में अकेली रहती थी। उनके पति का देहांत हो चुका था। बेटा भोपाल शहर में आईटी कंपनी में प्रोडक्शन इंजीनियर है। मृतका विद्या देवी के छोटे भाई युगांतर शर्मा आरएएस अफसर है। वे जयपुर में एसडीएम है।

पहला लाल रंग का मकान मृतका विद्या देवी का था। वह घर में अकेली रहती थी। उनके पड़ोस के मकान (नीला रंग) में गिरफ्तार आरोपी कृष्ण कुमार शर्मा रहता है। वह मकान की छत से विद्या देवी के घर में घुसा। वे गाय को चारा डालकर घर पहुंची। तब उनकी गला घोंटकर हत्या की और फिर छत के रास्ते से अपने मकान में चला गया।

पहला लाल रंग का मकान मृतका विद्या देवी का था। वह घर में अकेली रहती थी। उनके पड़ोस के मकान (नीला रंग) में गिरफ्तार आरोपी कृष्ण कुमार शर्मा रहता है। वह मकान की छत से विद्या देवी के घर में घुसा। वे गाय को चारा डालकर घर पहुंची। तब उनकी गला घोंटकर हत्या की और फिर छत के रास्ते से अपने मकान में चला गया।

आज सुबह करीब पौने 10 बजे आस-पड़ोस के लोगों ने पुलिस को सूचना दी कि विद्या देवी का शव उनके मकान में रेलिंग से बंधा हुआ है। उनके हाथ-पैर बंधे हुए है। तब हत्या की खबर मिलने पर डीसीपी साउथ हरेंद्र महावर सहित मानसरोवर सर्किल, जिला स्पेशल टीम, कमिश्नरेट स्पेशल टीम के अधिकारी व जवान, एफएसएल टीम, डॉग स्क्वायड टीम मौके पर पहुंची। तब दोपहर करीब 3 बजे बाद पड़ौस में रहने वाले संदिग्ध कृष्ण कुमार शर्मा पर शक हुआ। उसे पूछताछ के लिए थाने ले गए। जहां देर शाम को वारदात खुल गई।

हत्यारे के चेहरे पर खरोंच के निशान से हुआ संदेह, बोला-कुत्ते को खिलाने से निशान हुआ
पुलिस की 10 टीमों ने 100 पुलिसकर्मियों ने कॉलोनी में करीब 200 मीटर के दायरे में हर घर में अलग-अलग पूछताछ की। आसपास के सभी मकानों में जांच की गई। सीसीटीवी खंगाले गए। इसके बाद पुलिस ने शक के आधार पर पड़ोस में रहने वाले दो सगे भाईयों को हिरासत में लिया। इसमें एक युवक कृष्ण कुमार के चेहरे पर खरोंच के निशान थे। पूछताछ में उसने बताया कि वह कुत्ते खिलाता है।

इससे पंजा लगने का निशान है। उसने फेस मास्क भी पहन रखा था। आस-पड़ोस के लोगों ने बताया कि आज सवेरे कृष्ण कुमार और विद्या देवी के बीच कुत्ता को लेकर फिर से कहासुनी हुई थी। कृष्ण कुमार आवारा किस्म का लड़का है। ऐसे में संदेह की सुई कृष्ण कुमार पर आकर टिक गई। उसे पुलिस थाने ले गई।

घटनास्थल पर जांच करने पहुंची पुलिस टीम।

घटनास्थल पर जांच करने पहुंची पुलिस टीम।

सुबह 7 बजे दूध लेती दिखी थी महिला
पड़ोसियों के मुताबिक, सोमवार सुबह करीब 7 बजे विद्या देवी को घर से बाहर दूध लेते हुए देखा था। इसके बाद वह कालोनी में गाय को चारा डालने भी गईं थी। फिर उनको घर के बाहर नहीं देखा गया। ऐसे में यह तय था कि वारदात सुबह 7 से 10 के बीच हुई है। घर में छत का दरवाजा खुला था। ऐसे में यह भी तय था कि हत्यारे छत के रास्ते ही घर में घुसा है। मृतका का बेटा अभिनव चतुर्वेदी भोपाल में आईटी कंपनी में नौकरी करता है। उसकी अगले महीने 15 फरवरी को शादी है।

मकान के दरवाजे पर हाथ जोड़कर खड़े हुए युगांतर शर्मा। जो सबसे पहले मौके पर पहुंचे। जिसके बाद वे अपनी बहन को लेकर साकेत हॉस्पिटल गए थे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

मकान के दरवाजे पर हाथ जोड़कर खड़े हुए युगांतर शर्मा। जो सबसे पहले मौके पर पहुंचे। जिसके बाद वे अपनी बहन को लेकर साकेत हॉस्पिटल गए थे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

ऐसे हत्या का पता चला, रोज सुबह सोशल मीडिया की डीपी बदलती थीं शिक्षिका विद्या देवी जयपुर में गुर्जर की थड़ी स्थित एक सरकारी स्कूल में टीचर थीं। वह रोज सुबह अपने सोशल मीडिया पर लड्डू गोपाल की फोटो की डीपी लगाती थी। सोमवार सुबह डीपी अपडेट नहीं होने पर ऑफिस स्टाफ ने कॉल कर उनसे संपर्क करने की कोशिश की। फोन नहीं उठा तो पड़ोस में रहने वाले राजेश जैन को फोन किया। उनसे विद्या देवी से बात करवाने के लिए कहा।

पड़ोसी राजेश जैन ने विद्या देवी को आवाज लगाई तो कोई रिस्पांस नहीं मिला। इसके बाद जैन ने अपने बेटे को मकान के ऊपर की छत से उनके घर में जाकर देखने के लिए कहा। बेटे ने छत से झांककर देखा तो वह सहम गया। महिला के हाथ-पैर बंधे थे, शव भी रेलिंग से बंधा हुआ था। महिला की लाश देख वह डर गया और नीचे आकर दरवाजा खोला। इसके बाद पड़ोसी अंदर पहुंचे।

डीसीपी क्राइम दिगंत आनंद और एडीसीपी क्राइम सुलेश चौधरी मौके पर जांच करने पहुंचीं।

डीसीपी क्राइम दिगंत आनंद और एडीसीपी क्राइम सुलेश चौधरी मौके पर जांच करने पहुंचीं।

10 से ज्यादा अधिकारियों समेत 50 लोगों की टीम जांच में जुटी
हाई प्रोफाइल मामला होने के चलते डीसीपी क्राइम दिगंत आनंद , डीसीपी साउथ हरेंद्र महावर, एडीसीपी सुलेश चौधरी, एडीसीपी साउथ अवनीश कुमार, जिला स्पेशल टीम, कमिश्नरेट की स्पेशल टीम, 4 आरपीएस रैंक के अधिकारी और 6 इंचार्ज समेत 50 लोगों की टीम जांच में जुटी।