राष्ट्रीय महिला आयोग ने उन्नाव रेप मामले में आरोपी बीजेपी विधायक के पक्ष में बयान देने वाले बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. राष्ट्रीय महिला आयोग ने बलिया के बैरिया से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह के खिलाफ गलत बयानबाजी को लेकर नोटिस जारी करने का फैसला किया है.

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि उन्नाव गैंगरेप की पीड़िता को लेकर विधायक सुरेंद्र सिंह ने आपत्तिजनक बयान दिया है, इस पर हम उन्हें नोटिस भेजने जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह पत्र (नोटिस) उन्हें इसलिए भेजा जा रहा है ताकि उन्नाव की बलात्कार पीड़िता के बारे में उनके असंवेदनशील बयान को लेकर विस्तृत जानकारी मिल सके.


बता दें कि उन्नाव रेप मामले में बैरिया से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कुलदीप सिंह सेंगर के बचाव में विवादित बयान दिया है. सुरेंद्र सिंह ने कहा कि तीन बच्चों की मां के साथ कोई रेप करता है क्या? बीजेपी विधायक के इस बयान के बाद एक बार फिर यूपी सरकार की किरकिरी हुई है. सुरेंद्र सिंह ने कहा कि घटना के समय विधायक कुलदीप सिंह सेंगर वहां मौजूद नहीं थे. साथ ही उन्होंने रेप की घटना को प्रायोजित बताया और कहा कि मनोवैज्ञानिक आधार पर कह सकता हूं कि कोई भी 3-4 बच्चों की मां से दुष्कर्म नहीं कर सकता है.

 इधर, उन्नाव रेप केस में आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है. आरोपी विधायक पर उन्नाव के माखी थाने में बुधवार देर रात आईपीसी की धारा 363, 366, 376 और पॉक्सो कानून की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है. इसके साथ यूपी सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश भी कर दी है.

इस्तीफा दे महिला आयोग की टीम

रेप की कई बड़ी घटनाओं पर मचे बवाल के बीच राष्ट्रीय महिला आयोग की चुप्पी लोगों को हैरान कर रही है. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा की राष्ट्रीय महिला आयोग के अध्यक्ष और सदस्यों को इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि इतने संवेदनशील मामलों में भी चुप्पी साध कर आयोग के लोग बलात्कारियों को बढ़ावा दे रहे हैं.

उन्होंने सवाल उठाया कि अब तक आयोग ने इस मामले में ना तो कोई पत्र लिखा और ना ही किसी से कोई रिपोर्ट मांगी. बीजेपी विधायक पर बलात्कार का आरोप है लेकिन प्रधानमंत्री से लेकर मोदी सरकार की तमाम महिला मंत्री चुप हैं और यह बेहद खेद का विषय है.