नई दिल्ली: पाकिस्तान की ओर से लगातार हो रहे सीजफायर उल्लंघन को लेकर आज बड़ा फैसला लिया जा सकता है, गृहमंत्री राजनाथ सिंह इस मुद्दे पर गुरुवार को बैठक करेंगे, बताया जा रहा है कि दिल्ली में गृह मंत्रालय में होने वाली इस हाई लेवल मीटिंग में जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद भी शामिल होंगे, सीमा सुरक्षा और जम्मू-कश्मीर के हालातों के साथ ही इस बैठक में राज्य में सैन्य अभियान नहीं चलाने को लेकर भी बड़ा फैसला लिया जा सकता है, इस बैठक में ये तय किया जाएगा कि इस अभियान को वापस शुरू किया जाए या नहीं,

संघर्षविराम को लेकर भी होगा फैसला
खबर के मुताबिक, रमजान के पवित्र महीने में जम्मू-कश्मीर में सैन्य अभियान नहीं चलाने के फैसले को आगे बढ़ाया जाना चाहिए या नहीं इसे लेकर कई आला अधिकारियों के विचारों में मतभेद हैं, कुछ अधिकारियों का मानना है कि संघर्षविराम से घाटी में बदलाव महसूस किया गया है, वहीं दूसरी ओर कुछ अधिकारी इसे आगे बढ़ाए जाने को लेकर सेहमत नहीं हैं, उनका मानना है कि सैन्य अभियान नहीं होने से सुरक्षा स्थिति को बनाए रखने में मुश्किल होगी,

28 जून से शुरू होने वाली अमरनाथ यात्रा को लेकर सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हैं, पिछले साल अमरनाथ यात्रा के दौरान हुए आतंकी हमले में करीब आठ लोगों की जान चली गई थी, ऐसे में संघर्षविराम से जुड़ा फैसला इस यात्रा के लिए काफी अहम होगा,

बुधवार को सीजफायर उल्लंघन में चार जवान हुए थे शहीद
पाकिस्तान लगातार सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है, उसकी गोलीबारी में भारतीय सेना के जवान शहीद हो रहे हैं, बुधवार को भी पाक की इस नापाक हरकत के चलते चार बीएसएफ जवान शहीद हो गए, वहीं तीन अन्य घायल हो गए, बीएसएफ ने इस संबंध में बताया कि हाल में सेक्टर कमांडर स्तर की बैठक में संघर्ष विराम पर सहमति बनी थी, बीएसएफ ने इसका सम्मान किया, लेकिन पाकिस्तान ने बिना किसी उकसावे के गोलीबारी की, हाल में प्राप्त आंकड़े में यह खुलासा हुआ है कि जम्मू कश्मीर में वर्ष 2018 में अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखा के पास गोलीबारी की घटनाओं में इस साल अब तक सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 11 जवान शहीद हो चुके हैं,