जयपुर, राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव 2017 की तैयारियों में छात्र नेता लगे हुए हैं। चुनावों से पहले यूनिवर्सिटी के हॉस्टल्स में छात्रों का अवैध रूप से कब्जा होता जा रहा है। ऐसा नहीं है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन को इसकी जानकारी नहीं है। लेकिन जानकारी के बावजूद यूनिवर्सिटी प्रशासन मूकदर्शक बना है और अवैध रूप से हॉस्टल में जमे छात्रों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

अवैध रूप से हॉस्टल में रहने के दौरान अक्सर छात्रों में झगड़ा होता रहता है। एेसा ही हुआ डब्ल्यूयूएस हॉस्टल में। यहां रह रहे छात्र शक्तिसिंह पर शुक्रवार देर रात कुछ बाहरी छात्रों ने हमला कर दिया। मामले में गांधीनगर थाने ने एफआईआर दर्ज कराई गई। आरोपी हमलावर छात्र विजय पूनिया की पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है। वहीं पीड़ित छात्र शक्तिसिंह फॉर्थ सेमेस्टर का छात्र था। चीफ वार्डन एमएल शर्मा ने बताया कि परीक्षा खत्म होने के बाद छात्र शक्तिसिंह हॉस्टलर नहीं रहा।

चीफ वार्डन एमएल शर्मा ने बताया कि एग्जाम खत्म होने के बाद ही ऐसे छात्रों से हॉस्टल खाली कराने को कहा गया था। सभी वार्ड्नस को 2 लेटर जारी कर निर्देश दिए थे कि एग्जाम बाद अवैध रूप से रह रहे छात्रों को निकालो। लेकिन किसी भी वार्डन ने ऐसे छात्रों से या अन्य किसी बाहरी छात्र के हॉस्टल में रहने की जानकारी नहीं दी है। परीक्षा खत्म होने के बाद छात्र शक्तिसिंह हॉस्टलर नहीं रहा है, वार्डन को हॉस्टल खाली कराना चाहिए था। अब पुलिस से मिलकर ऐसे छात्रों को हॉस्टल से निकाला जाएगा।