जयपुर:राजस्थान में इस साल के अंत में विधानसभा होने जा रहे हैं। चुनावों को लेकर कांग्रेस शनिवार से चुनावी अभियान का श्रीगणेश करने जा रही है। इसके लिए शनिवार को राहुल गांधी जयपुर का दौरा कर रहे हैं। जयपुर दौरे में राहुल एक रोड शो भी करेंगे। 11 अगस्त को रोड शो के रूट को लेकर हुए विवाद में कई स्तर की बातचीत के बाद आखिरकार सहमति बन गई।

जयपुर पुलिस प्रशासन ने कुछ बदलाव के साथ राजस्थान कांग्रेस की ओर से दिए गए रूट को स्वीकार कर लिया गया। राजस्थान कांग्रेस की ओर से दिए गए रूट में कुछ बदलाव के साथ जयपुर पुलिस प्रशासन ने अपनी मंजूरी दे दी। दरअसल, पहले जयपुर कांग्रेस की तरफ से जो रूट चार्ट जयपुर पुलिस को दिया गया था। उसमें SMS अस्पताल के आगे से काफिला ले जाने का कार्यक्रम था। लेकिन सचिन पायलट की दखल के बाद कार्यक्रम में बदलाव कर दिया गया है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट का कहना है कि राहुल गांधी की सुरक्षा उनके लिए बेहद जरूरी है। लिहाजा पुलिस प्रशासन पर एसपीजी जो स्वीकृति देती है उस पर उनकी सहमति है। हालांकि जयपुर पुलिस अब भी यही चाहती है कि राहुल गांधी का रोड शो या तो पूरी तरीके से जेएलएन मार्ग पर निकले या पूरी तरीके से टोंक रोड पर निकले ताकि दोनों रास्तों को बंद नहीं करना पड़े। हालांकि जयपुर पुलिस की ओर से राजस्थान कांग्रेस से पूछा गया कि आखिरकार क्यों जेएलएन मार्ग जैसे सुरक्षित रास्ते की बजाए कांग्रेस टोंक रोड जैसे भीड़भाड़ वाले असुरक्षित मार्ग से राहुल गांधी को ले जाना चाहती है। जबकि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राजस्थान के अध्यक्ष मदन सैनी सहित अन्य बड़े नेताओं के रोड शो जेएलएन मार्ग से ही हुए हैं।

कुल मिलाकर राहुल गांधी के इस कार्यक्रम से पहले ही कांग्रेस के पास सुर्खियां बटोरने का एक मौका मिल गया। अब जब राहुल गांधी के रूट को अंतिम रूप दे दिया गया है तो कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी चुनौती है कि इस रूट पर बड़ी संख्या में भीड़ जुटाना। ताकि उनके दावों के मुताबिक कांग्रेस का यह कार्यक्रम ऐतिहासिक बन सके।

रोड शो का रूट
नए रूट के मुताबिक राहुल गांधी का काफिला अब एयरपोर्ट से जवाहर सर्किल होते हुए फोर्टिस अस्पताल के सामने से टर्न लेकर टोंक रोड से होते हुए गोपालपुरा पुलिया के ऊपर से होते हुए रामबाग सर्किल पहुंचेगा। जहां से SMS स्कूल के आगे जेएलएन मार्ग पर डाइवर्ट होकर राम निवास गार्डन होते हुए सांगानेरी गेट और वहां से फिर रामलीला मैदान पहुंचेगा।

बदले हुए कार्यक्रम में मोती डूंगरी गणेश मंदिर में दर्शन का कार्यक्रम शामिल नहीं है। रामलीला मैदान पहुंचने के बाद राहुल गांधी को गोविंद देव मंदिर में दर्शन के लिए अलग से गाड़ी में ले जाया जाएगा।  एयरपोर्ट से रोड शो के लिए राहुल गांधी के लिए अलग से वाहन की व्यवस्था की जा रही है। रोड शो के लिए गाड़ी दिल्ली से मंगवाई गई है। जिसकी छत पर चढ़कर राहुल गांधी रास्ते में होने वाले एक दर्जन जगहों पर स्वागत करने वाले संगठनों और कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे।

जिस रामलीला मैदान में राहुल गांधी प्रदेश कांग्रेस के नेताओं के साथ संवाद करेंगे उसमें बैठने की क्षमता 4 हजार है लेकिन राजस्थान कांग्रेस की ओर से 6 से 7 हजार कांग्रेसी नेताओं को आमंत्रित किया गया है। इन सभी नेताओं को पास के जरिए ही आयोजन स्थल पर जाने की अनुमति मिल पाएगी। प्रदेश कांग्रेस की ओर से नेताओं के लिए पास जारी किए जाएंगे।

राहुल गांधी के रोड शो के दौरान राजस्थान कांग्रेस के अलावा एनएसयूआई, यूथ कांग्रेस, महिला कांग्रेस, सेवादल कांग्रेस, व्यापार, ओबीसी, एससी/एसटी प्रकोष्ठ और विभिन्न व्यापारिक मंडल को स्वागत की जिम्मेदारी दी गई है।

राहुल गांधी के दौरे को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहेंगे। एसपीजी की सुरक्षा के अलावा तीन स्तरीय सुरक्षा चक्र बनाया जाएगा। जिसमें एक सुरक्षा चक्र में राजस्थान पुलिस दूसरे सुरक्षा चक्र में स्पेशल कमांडो और तीसरे सुरक्षा चक्र में सादा वर्दी में पुलिस के जवान तैनात रहेंगे। राहुल गांधी को पहनाए जाने वाली फूल मालाओं की भी विशेष जांच की जाएगी।