जयपुर:कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी  प्रदेश विधानसभा चुनाव का शंखनाद जयपुर के मोती डूंगरी गणेश मंदिर और शहर के आराध्यदेव गोविंद देव मंदिर से करने जा रहे हैं। 11 अगस्त को राहुल गांधी को मंदिर दर्शन और कार्यकर्ताओं की तरफ से स्वागत का कार्यक्रम तय किया गया है।

इस दौरान पार्टी की ओर से नेताओं-कार्यकर्ताओं के लिए सम्मेलन का कार्यक्रम भी रखा गया है, जिसमें प्रदेश भर से कांग्रेसी पहुंचेंगे। हालांकि यह सम्मेलन रामलीला मैदान या एसएमएस स्टेडियम में से कहां पर किया जाएगा, तय नहीं है। इस पर देर रात तक कांग्रेस के नेताओं की ओर से मंथन चलता रहा। राहुल को पीसीसी कार्यालय भी ले जाने की तैयारी है। कांग्रेस की ओर से पहले राहुल गांधी को सीकर ले जाने की तैयारी चल रही थी। कार्यक्रम में अचानक बदलाव किया गया। सीकर के बजाय जयपुर में ही उनका प्रोग्राम तय कर दिया गया।

संगठन पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को बुलाने की तैयारी:कांग्रेस की ओर से महज तीन दिन के भीतर राहुल गांधी के आने की तैयारी करनी है। पार्टी की ओर से आयोजित किए जाने वाले सम्मेलन में विधायक, सांसद, पीसीसी पदाधिकारी, जिलाध्यक्ष, ब्लॉक अध्यक्ष, एआईसीसी-पीसीसी सदस्य, पूर्व पीसीसी चीफ, पूर्व मंत्री, अग्रिम संगठन और प्रकोष्ठों-विभागों के नेताओं को बुलाया जा रहा है।

तैयारियों को लेकर रणनीति बनाई:कांग्रेस नेताओं का कहना है कि राहुल गांधी के एयरपोर्ट से उतरने के बाद उन्हें सबसे पहले मोती डूंगरी गणेश मंदिर और गोविंद देवजी मंदिर दर्शन कराया जाएगा। राहुल का काफिला एयरपोर्ट से शुरु हो जाएगा। इसको लेकर मंगलवार को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट, जिलाध्‍यक्ष्‍ा प्रतापसिंह खाचरियावास सहित अन्य नेताओं ने राहुल के स्वागत को लेकर एयरपोर्ट से लेकर सांगानेरी गेट तक शहर के विभिन्न स्थानों का जायजा लिया। बाद में प्रदेश मुख्यालय में दौरे की तैयारी को लेकर जयपुर के कांग्रेस नेताओं और पदाधिकारियों की एक बैठक भी हुई, जिसमें दौरे की तैयारी की रणनीति बनाई गई।