जयपुर, भारत सरकार के कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा राज्य में चल रही समर्थन मूल्य पर मूंगफली की खरीद को 15 दिन बढ़ाने एवं 2 लाख 82 हजार मीट्रिक टन तक खरीद की अनुमति प्रदान कर दी गई है। अब राज्य में 24 जनवरी, 2018 तक मूंगफली की खरीद हो सकेगी। यह जानकारी गुरुवार को सहकारिता एवं गोपालन मंत्री अजय सिंह किलक ने दी।

किलक ने बताया कि राज्य के किसानों को अधिक से अधिक लाभान्वित करने के लिए दलहन एवं तिलहन के खरीद लक्ष्यों एवं समयावधि को बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे थे। उन्होंने बताया कि उनके स्तर से दिसम्बर माह में केन्द्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह, केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत तथा केन्द्रीय खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलात राज्य मंत्री सीआर चौधरी से मुलाकात कर इस संबंध में मांग पत्र सौंपा गया था।

सहकारिता मंत्री ने बताया कि मूंग एवं उड़द के लिए समयावधि को पूर्व में ही 26 जनवरी, 2018 तक बढ़ा दिया गया था, लेकिन मूंगफली की समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए निर्धारित 90 दिन की समयावधि को नहीं बढ़ाया था। इससे लगभग 2 हजार पंजीकृत किसानों से मूंगफली की खरीद नहीं हो पाई थी। केन्द्र सरकार द्वारा राज्य के किसानों के हित में किए गए इस फैसले से अब पंजीकृत किसानों से मूंगफली की खरीद की जा सकेगी।

प्रमुख शासन सचिव एवं रजिस्ट्रार सहकारिता अभय कुमार ने बताया कि राज्य में कुल 3 लाख 38 हजार 664 किसानों द्वारा मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली का समर्थन मूल्य पर बेचान के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराया था। पंजीकृत किसानों में से 3 लाख 2 हजार 705 को तुलाई के लिए दिनांक का आवंटन कर दिया गया है तथा 2 लाख 51 हजार 518 किसानों से उनकी उपज की तुलाई करवाई जा चुकी है।