नई दिल्ली:देश की राजधानी दिल्ली के उत्‍तर-पूर्वी इलाके में पिछले कई दिनों से हिंसा का खौफनाक मंजर सामने आया. उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर, चांदबाग, भजनपुरा, खजूरीखास जैसे इलाकों में फैली हिंसा में अब तक 23 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है. इसी को लेकर दिल्ली पुलिस के पीआरओ एम.एस. रंधावा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कई जानकारी दी हैं. रंधावा ने दो हेल्पलाइन नंबरों की भी जानकारी दी है जिस पर कॉल कर लोग इस हिंसा से जुड़ी जानकारी दे सकते हैं और सहायता के लिए कॉल कर सकते हैं. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा हम उत्तर पूर्वी जिलों के लिए दो नंबर 22829334 और 22829335 उपलब्ध करा रहे हैं. इससे हम लोगों को अपील करना चाहेंगे कि अगर आपको किसी सहायता की जरूरत है, आपके पास कोई जानकारी है, तो आप बता सकते हैं.

18 FIR दर्ज, 106 गिरफ्तार
रंधावा ने जानकारी दी कि हमारे पास CCTV फुटेज हैं और भी सबूत हैं जिनके आधार पर कार्रवाई की जा रही है. हमने पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की थी, सीनियर अधिकारी भी अलग-अलग जगह PCR कॉल की निगरानी कर रहे थे, ड्रोन का इस्तमाल भी किया गया है. उन्होंने कहा उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा की जो घटनाएं हुई हैं इससे संबंधित 18 FIR दर्ज की गई हैं और पूरे घटनाक्रम की जांच चल रही है.

दिल्ली पुलिस की ओर से जानकारी दी गई उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा की जो घटनाएं हुई हैं इससे संबंधित 18 FIR दर्ज की गई हैं, जांच चल रही है. अभी तक 106 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, आने वाले समय में और भी गिरफ्तारियां की जाएंगी.

कोर्ट ने दिया थे नंबर जारी करने के निर्देश
इससे पहले बुधवार को राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा (Delhi Violence) के मामले में हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया. अदालत ने अपने फैसले में हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों को अंतिम संस्कार में जाने के लिए सुरक्षित रास्ता मुहैया कराने का निर्देश दिया है. इसके अलावा हेल्पलाइन नंबर जारी करने का आदेश भी दिया है. इस मामले पर अदालत अब 28 फरवरी (शुक्रवार) को 2.30 बजे अगली सुनवाई करेगी.
गौरतलब है कि उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (CAA) का समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले समूहों के बीच संघर्ष ने साम्प्रदायिक रंग ले लिया था. उपद्रवियों ने कई घरों, दुकानों तथा वाहनों में आग लगा दी और एक-दूसरे पर पथराव किया. इन घटनाओं में बुधवार तक 23 लोगों की जान चली गई और करीब 189 लोग घायल हो गए हैं.