नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में आयोजित हुए राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेताओं से मुलाकात की। मोदी ने इन राष्ट्रमंडल खेलों में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद पदक जीतने में असफल रहे खिलाडिय़ों की भी प्रशंसा की। अपने निवास स्थान पर आयोजित हुए एक समारोह में मोदी ने कहा, ‘‘खेल जगत में हासिल हुई उपलब्धियां हर किसी को प्रेरित करती हैं। इन खिलाडिय़ों की उपलब्धियों ने भारत का मान बढ़ाया है। जब भी कोई भारतीय वैश्विक रूप से आयोजित प्रतियोगिता में जीत हासिल करता है, तो भारतीय राष्ट्रध्वज ऊंचा उठता है।’’भारत ने 21वें राष्ट्रमंडल खेलों की पदक तालिका में तीसरा स्थान हासिल किया। देश ने कुल 66 पदक जीते, जिसमें 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य पदक शामिल थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक खिलाड़ी के जीवन का प्रसार कई दशकों तक होता है। उन्होंने इस क्रम में भारत की अनुभवी महिला मुक्केबाज मैरी कॉम का उदाहरण दिया। इसके साथ ही मोदी ने पुलेला गोपीचंद का भी उदाहरण दिया, जो एक खिलाड़ी के तौर पर सफल करियर के बाद अब कई बैडमिंटन खिलाडिय़ों के मेंटर हैं।

मोदी ने कहा कि प्रतिभा, प्रशिक्षण, ध्यान और कड़ी मेहनत के अलावा मानसिक रूप से मजबूत होना भी एक खिलाड़ी के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। इस क्रम में उन्होंने योग के लाभों का उल्लेख किया। केंद्रीय खेल राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ भी इस समारोह में मौजूद थे।