पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोत्‍तरी लगातार 12वें दिन जारी रही. मुंबई में शुक्रवार को पेट्रोल की कीमत 85.65 रुपये प्रति लीटर पहुंच गई  है जबकि गुरुवार को यहां पेट्रोल 85.29 रुपये प्रति लीटर था. दिल्‍ली में पेट्राेल 77.83 रुपये, कोलकाता में 80.47 रुपये जबकि चेन्‍नई में पेट्रोल 80.80 रुपये प्रति लीटर बेचा जा रहा हैै. वहीं डीजल की बात करें तो मुंबई में शुक्रवार को डीजल 73.20 रुपये प्रति लीटर बेचा जा रहा है जबकि कल डीजल 72.96 रुपये था. पेट्रोल के दाम में 36 पैसे जबकि डीजल के दाम में 24 पैसे की बढ़ोत्‍तरी दर्ज की गई है.

गौरलतब है कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर आलोचना झेल रही मोदी सरकार अब लोगों को राहत देने के मकसद से ओएनजीसी जैसी तेल उत्पादक कंपनियों पर टैक्स लगाने की तैयारी कर रही है. सरकार के इस कदम से पेट्रोल-डीजल के दाम दो रुपये तक कम हो सकते हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में दो दिन पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक हुई थी, जिसके बाद सरकार की तरफ से कहा गया कि वह इसके लॉन्ग टर्म सॉल्युशंस पर काम कर रही है.

कई बड़े कदम उठाने की हो रही तैयारी
भारतीय तेल उत्पादक कंपनियों के लिए कच्चे तेल की कीमत 70 डॉलर प्रति बैरेल तक सीमित की जा सकती है. उन्होंने बताया कि अगर यह योजना अमल में लाई जाती है तो भारतीय ऑयल फील्ड से तेल निकालकर उसे अंतरराष्ट्रीय दरों पर बेचने वाली तेल उत्पादक कंपनियां अगर 70 डॉलर प्रति बैरेल की दर से ज्यादा पर पेट्रोल बेचती हैं, तो उन्हें आमदनी का कुछ हिस्सा सरकार को देना होगा.

तेल पर लागू टैक्स की समीक्षा की जरूरत- हिंदुस्तान पेट्रोलियम
पेट्रोल-डीजल कीमतों के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच जाने के बीच हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक मुकेश कुमार सुराना ने पेट्रोलियम उत्पादों पर लागू टैक्स की समीक्षा करने की जरूरत बताई है. उन्होंने कहा कि ग्राहकों को राहत पहुंचाने के लिय यह एकदम जरूरी हो गया है. हालांकि पेट्रोल - डीजल की बढ़ती कीमतों के बावजूद इसके उपभोग में कमी का रुझान नहीं दिखता है.