चेन्नई:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को दक्षिण भारत के तीन राज्यों आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु और कर्नाटक जाएंगे। यहां वे कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे। पिछले साल भाजपा के साथ तेदेपा के गठबंधन तोड़ने के बाद मोदी का आंध्र में यह पहला दौरा है। वे गुंटूर में एक सभा को संबोधित भी करेंगे। मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने पार्टी कार्यकर्ताओं से बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन करने का आह्वान किया।

तीन राज्यों के दौरे में मोदी का पहला पड़ाव आंध्रप्रदेश होगा। यहां वे विशाखापट्टनम में स्ट्रैटेजिक पेट्रोलियम रिजर्व राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इसकी क्षमता 13 लाख 30 हजार टन है। इसके अलावा कृष्णा गोदावरी बेसिन में ओएनजीसी की परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे।

आंध्र के साथ विश्वासघात का विरोध करें: तेदेपा प्रमुख

चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार को पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा, ''मोदी सरकार की ओर से आंध्र के साथ हुए विश्वासघात का विरोध करें, जिसकी चर्चा पूरे देश में होनी चाहिए। राज्य सरकार को अस्थिर करने के लिए साजिश रची गई। प्रधानमंत्री 2014 में राज्य के बंटवारे के बाद की बर्बादी देखने के लिए आ रहे हैं।'' इससे पहले नायडू ने कहा था कि क्या वे यह देखने आ रहे हैं कि लोग अभी जीवित हैं या नहीं?

तमिलनाडु-कर्नाटक में कई योजनाओं की शुरुआत
इसके बाद मोदी तमिलनाडु के तिरुपुर में 100 बेड के ईएसआईसी हॉस्पिटल, त्रिचि एयरपोर्ट पर नए भवन और चेन्नई एयरपोर्ट के आधुनिकीकरण परियोजना का नींव रखेंगे। चेन्नई में भारत पेट्रोलियम के तटीय टर्मिनल और चेन्नई मेट्रो के एक फेज की शुरुआत करेंगे। मोदी कर्नाटक के धारवाड़ में आईआईटी का शिलान्यास करेंगे। फिर मेंगलुरु और पेदुर में पेट्रोलियम रिजर्व राष्ट्र को समर्पित करेंगे।