नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर के चलते उत्पन्न हो रही स्थिति और इससे निपटने के लिए किए जा रहे प्रयासों को लेकर गुरुवार रात 8 बजे देश को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा, 'पिछले 2 महीने से हम लगातार दुनिया से आ रही चिंताजनक खबरें देख रहे हैं. 2 महीनों में भारत के लोगों ने इस महामारी का डटकर मुकाबला किया है. कोरोना वायरस ने पूरी मानव जाति को संकट में डाला है.' पीएम मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की अपील की है. उन्‍होंने देशवासियों से अपील की कि वह रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक घर ही रहें.

उन्‍होंने कहा कि सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक घर पर ही रहें. लोग घरों से बाहर ना निकलें. उन्‍होंने अपील की कि 10 साथियों को जनता कर्फ्यू के बारे में बताएं. रविवार को शाम 5 बजे सायरन बजाया जाएगा. सरकार ने वित्‍त मंत्री के नेतृत्‍व में कोविड 19 इकोनॉमिक टास्‍क फोर्स के गठन का फैसला लिया है.

'खाने-पीने की चीजों की कमी नहीं'
पीएम मोदी ने कहा कि इस महामारी के कारण देश की अर्थव्‍यवस्‍था को नुकसान पहुंचाया है. पीएम मोदी ने व्‍यापारियों से भी अपील की कि अगर उनका कोई कर्मी काम पर ना आ पाए तो उसका वेतन ना काटें. उन्‍होंने कहा कि देश के लोगों को आश्‍वस्‍त करता हूं कि देश में खाद्यान्‍न, दूध और अन्‍य सामान की कमी ना हो, इसके लिए सरकार प्रयास कर रही है. घर पर सामान एकत्र करने का काम ना करें. पहले जैसा ही माहौल रहने दें. घबराएं नहीं.

'मुझे आपके आने वाले कुछ सप्‍ताह चाहिए'
पीएम मोदी ने कहा, 'मुझे देशवासियों ने कभी निराश नहीं किया है. मैं आज 130 करोड़ देशवासियों से कुछ मांगने आया हूं. मुझे आपके आने वाले कुछ सप्‍ताह चाहिए. आपका आने वाला कुछ समय चाहिए. प्‍यारे देशवासियों अब तक महामारी से बचने के लिए कोई निश्चित उपाय नहीं आया है, न ही वैक्‍सीन आई है. हर किसी की चिंता बढ़नी स्‍वाभाविक है.'

'130 करोड़ भारतीयों को संकल्‍प दृढ़ करना होगा'
पीएम मोदी ने कहा, 'भारत पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, ये मानना गलत है. इसलिए दो प्रमुख बातों पर ध्‍यान देना जरूरी है. ये हैं संकल्‍प और संयम. 130 करोड़ भारतीयों को संकल्‍प दृढ़ करना होगा कि हम खुद भी संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी बचाएंगे.' पीएम मोदी ने देशवासियों से कहा, 'सोशल डिस्‍टेंसिंग कोरोना वायरस से बचने का सही उपाय है. जितना हो सके, अपने घर पर रहें. घर से ही काम करें. आप घर से ही ऑफिस का काम करें. समाज को समारोहों से दूर रहना होगा.'