जोधपुर:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग़्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हिंदुत्व के मुद्दे पर जवाब दिया। मोदी ने कहा कि ऋषि-मुनियों ने भी कभी दावा नहीं किया कि उनको हिंदू और हिंदुत्व का पूरा ज्ञान है। ये इतना विशाल है कि इस पूरे ज्ञान को समेटना इंसान के बस की बात नहीं है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस ज्ञान का भंडार मेरे पास है, मैं ऐसा दावा कभी नहीं कर सकता। नामदार कर सकते हैं।

यूपीए ने कहा था, राम का ऐतिहासिक प्रमाण नहीं: मोदी

उन्होंने कहा, "हिंदुत्व हिमालय से ऊंचा और समुद्र से भी गहरा है, इसे समझना आसान नहीं है। अगर आप इतने ज्ञानी हैं, तो बताएं कि आपकी माताजी दिल्ली में सरकार चलाती थीं, तब यूपीए सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में लिखित में कहा था कि भगवान राम का कोई ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है, क्या आप इससे सहमत हैं?" राहुल ने पिछले दिनों कहा था कि मोदीजी हिंदुत्व की नींव के बारे में भी नहीं जानते हैं। वे कैसे हिंदू हैं?

प्रधानमंत्री मोदी ने सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मैं हिदुंत्व के ज्ञानी से पूछना चाहता हूं कि जब सरदार पटेल ने सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण का संकल्प लिया था, तब देश के पहले प्रधानमंत्री ने सोमनाथ मंदिर के संबंध में क्या रूख अपनाया था, ये पूरा देश जानता है। आप हमें हिंदुत्व सिखाने आए थे। उन्होंने कहा कि मोदी को हिंदुत्व का ज्ञान है या नहीं, राजस्थान इस मुद्दे पर वोट करेगा? इस बार भी कांग्रेस के झूठ को, मूर्खतापूर्ण तर्क को राजस्थान स्वीकार करने वाला नहीं है।

मोदी ने कहा- झूठ फैलाने की यूनिवर्सिटी है कांग्रेस

"झूठ फैलाने में कांग्रेस एक ऐसी यूनिवर्सिटी बन गई है, जहां प्रवेश करते ही झूठ की पीएचडी का अध्ययन शुरू हो जाता है। जो ज्यादा नंबर लेकर आता है उसे पद और पदवी दी जाती है।" 
"इस देश में कांग्रेस ने गांधी के सपनों को खत्म कर दिया। नामदार गांधी को याद करने के लिए फकीर गांधी को भूला दिया। उन्होंने कहा कि गांधीजी के स्वच्छता का सपना आजादी के बाद पूरा हो जाना चाहिए था। वो काम मेरे जिम्मे आया। मैं आज स्वच्छता का अभियान चलाकर उनके (गांधीजी) सपने को पूरा कर रहा हूं।" 
"कांग्रेस के लोग मानकर चलते हैं कि राजनीति में कुछ करने की जरुरत नहीं है, जातियों के समीकरण बैठाकर, वोटों के ठेकेदारों को अपना पक्ष में कर लो। कांग्रेस पार्टी का विकास में विश्वास नहीं है।" 

मोदी गहलोत पर हमला करने से बचे
मोदी ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृहनगर में उनकी आलोचना करने से परहेज ही किया। अपने भाषण में उन्होंने दो बार गहलोत का नाम लिया। उनका पूरा भाषण कांग्रेस और राहुल गांधी पर फोकस रहा।

किस तरह के हिंदू हैं मोदी: राहुल
राहुल ने उदयपुर में संवाद कार्यक्रम में कहा था- "हिंदुत्व का सार क्या है? गीता में क्या कहा गया है? इसका ज्ञान हर किसी को है, हर जगह ज्ञान फैला हुआ है। हर जीवित वस्तु के अंदर ज्ञान है। हमारे पीएम कहते हैं कि वे हिंदू हैं, लेकिन वे हिंदुत्व की नींव को नहीं समझते। वे किस तरह के हिंदू हैं? उन्हें लगता है कि संसार का सारा ज्ञान उन्हीं के दिमाग से निकलता है।"