अहमदाबाद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत यात्रा पर आए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने बुलेट ट्रेन का शिलान्‍यास किया। जापान के प्रधानमंत्री ने इस मौके पर अपने भाषण की शुरुआत नमस्‍कार से की। उन्‍होंने कहा कि भारत के नए अध्‍याय की शुरुआत से खुशी हो रही है। भारत अगर ताकतवर होता है, तो यह जापान के हित में है। हम प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों का पूरा समर्थन करते हैं। मेरे मित्र मोदी एक दूरदर्शी नेता हैं।

शिलान्‍यास से पहले रेल मंत्री ने पीयूष गोयल ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट में जापान की मदद के लिए पीएम शिंजो एबी का धन्‍यवाद किया। उन्‍होंने कहा कि बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट भारत में बहुत बड़ा परिवर्तन लेकर आएगा। यह प्रोजेक्‍ट भारत के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा। मेक इन इंडिया को भी इस प्रोजेक्‍ट से गति मिलेगी। बुलेट ट्रेन जापान और भारतीयों के बीच भाइचारे का प्रतीक है।

यह परियोजना एक लाख, आठ हजार करोड़ की है। जापानी पीएम की इस यात्रा से गुजरात को काफी लाभ होगा। अलंग शिपयार्ड को 600 करोड़, गुजरात में आधारभूत ढांचे के लिए एक हजार करोड़ आदि की भी मदद जापान करेगा। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो एबी ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट के मॉडल को देखा। एबी को बताया गया कि ट्रेन का रूट क्‍या होगा और कहां-कहां से होकर ट्रेन गुजरेगी।

बुलेट ट्रेन रूट

-साबरमती से मुंबई दोहरी होंगी लाइनें
-156 किमी महाराष्ट्र, 351 किमी गुजरात, 2 किमी दादर और नगर हवेली
-सृजित होंगे रोजगार: 20 हजार निर्माण क्षेत्र में, 4 हजार ऑपरेशन में, 20 हजार अप्रत्यक्ष रूप से।

पूरे रूट में शहरी औद्योगिक विकास को मिलेगी गति
बुलेट ट्रेन साबरमती से मुंबई तक पहुंचेगी और इसके लिए दोहरी लाइन होंगी। इसका लगभग 156 किमी महाराष्ट्र और 351 किमी गुजरात में होगा। बुलेट ट्रेन का पहला स्‍टेशन साबरमती है, जिसके बाद यह अहमदाबाद, आणंद/ नादिया, वडोदरा, भरच, सूरत, बिलीमोरा, वापी, वोइसर, विरार और ठाणे स्‍टेशन होते हुए अंतिम स्‍टेशन मुंबई पहुंचेगी।