नई दिल्ली, पेट्रोल की कीमतें 16 अप्रैल से लगातार 55 महीने के हाई पर बनी हुई हैं। मंगलवार को दिल्ली में भाव 74.63 रुपए प्रति लीटर हो गया है। सीरिया में चल रहे संकट की वजह से क्रूड लगातार महंगा हो रहा है जिसकी वजह से पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं। इससे पहले एक सितंबर 2013 को दिल्ली में पेट्रोल मौजूदा भाव के आस-पास था।

90 रुपए तक पहुंच सकता है पेट्रोल

ग्लोबल रिसर्च फर्म जेपी मॉर्गन के मुताबिक, अगर सीरिया में चल रहा तनाव कम नहीं हुआ तो भारत में पेट्रोल 90 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच सकता है। भारत अपनी जरूरत का ज्यादातर तेल आयात करता है और डॉलर में भुगतान करता है। ऐसे में कीमत बढ़ती हैं तो ज्यादा डॉलर देश से बाहर जाएंगे और रुपया कमजोर होगा। इस तरह देश पर दोहरी मार पड़ेगी।

कीमतों में तेजी की क्या वजह है?

- अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भी तेल के भाव 3 साल के उच्चतम स्तर पर हैं। मांग बढ़ने और सप्लाई घटने से तेल की कीमतों में उछाल आया है। तेल निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) के सदस्य ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों की आशंका के चलते भी दाम बढ़े हैं। ऐसे में भारत के लिए तेल का आयात महंगा हो गया है। इसके चलते यह महंगा हो रहा है।

रोज तय होती हैं कीमतें

- फिलहाल पेट्रोल-डीजल के भाव हर रोज तय होते हैं। नई दरें सुबह 6 बजे से लागू हो जाती हैं। तेल मार्केटिंग कंपनियां अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड के दामों के मुताबिक देश में तेल के भाव तय करती हैं।

- पिछले साल जून से कीमतों में हर रोज बदलाव का फॉर्मूला अपनाया जा रहा है। इससे पहले हर महीने की पहली और 16 तारीख को कीमतें तय होती थीं।

कैसे मिले राहत ?

- अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड सस्ता होने पर 
- एक्साइज ड्यूटी में कटौती करने पर

लेकिन इन दोनों ही मोर्चों पर फिलहाल राहत की संभावना नहीं है।

-कच्चे तेल की मांग लगातार बढ़ रही है। उधर ईरान पर एक बार फिर से अमेरिकी प्रतिबंधों की आशंका बनी हुई है। ऐसे में जल्द क्रूड सस्ता होने की उम्मीद नहीं है।

-इधर सरकार ने भी एक्साइज ड्यूटी में कटौती से साफ इनकार कर दिया है।

सरकार का कहना- है कि पेट्रोल-डीजल पर ड्यूटी एक रुपए कम हुई तो 13,000 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ेगा।

जिम्मेदारी भूली सरकार

17 दिसंबर 2015 को पेट्रोलियम मंत्री ने कहा था- "पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ेंगे और उपभोक्ताओं पर बोझ बढ़ेगा, तो एक्साइज ड्यूटी घटाने पर विचार करेंगे। कंज्यूमर को राहत देना सरकार की जिम्मेदारी है।"

कब घटी एक्साइज ड्यूटी ?

- सरकार ने एक फरवरी 2018 को बजट में बेसिक एक्साइज ड्यूटी 2 रुपए घटा दी वहीं 6 रुपए की अतिरिक्त एक्साइज ड्यूटी खत्म कर दी। इसके बावजूद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई राहत नहीं मिली क्योंकि सरकार ने 8 रुपए प्रति लीटर रोड सेस लागू कर दिया।

- इससे पहले अक्टूबर 2017 में पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 2 रुपए प्रति लीटर घटाई थी जब दिल्ली में पेट्रोल 70.78 रुपए और डीजल 59.14 रुपए पहुंच गया था। इस कटौती के बाद जरूर पेट्रोल-डीजल सस्ते हुए थे।