नई दिल्ली:कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाते हुए दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई है. याचिका में सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर भड़काऊ भाषण देने के लिए एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई है. हाई कोर्ट इस मामले की सुनवाई के लिए राजी हो गया है. शुक्रवार को दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका पर सुनवाई होगी.

हेट स्पीच के मामले में दायर इस याचिका में सोनिया-राहुल के अलावा प्रियंका गांधी, असदुद्दीन ओवैसी, वारिस पठान, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया, आप विधायक अमानतुल्लाह खान और वकील महमूद प्राचा के नाम भी शामिल हैं. 

यह याचिका वकील चेतन शर्मा की तरफ से दायर की गई है. याचिका में कहा गया है कि सोनिया और राहुल गांधी ने लोगों को नागरिकता कानून के खिलाफ भड़काया. भड़काऊ भाषणों के जरिए उन्हें सड़कों पर उतरने के लिए उकसाया गया. याचिका में कहा गया है कि इस तरह के हेट स्पीच के बाद कई जगह हिंसा की घटनाएं हुईं. 

आपको बता दें कि बुधवार को हेट स्पीच के मामले में सुनवाई करते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा भड़काने के लिए भाजपा नेता अनुराग ठाकुर, कपिल मिश्रा और प्रवेश वर्मा के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने को कहा था. 

न्यायमूर्ति मुरलीधर ने सुनवाई के दौरान कहा था कि गलत संकेत जा रहा है और इसके लिए एफआईआर दर्ज करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि हम एक और 1984 नहीं चाहते हैं. अदालत ने एफआईआर दर्ज न किए जाने पर कहा, "हम चाहते हैं कि आप इसे पुलिस आयुक्त को बताएं. आपको बैठकर एक सचेत निर्णय लेना चाहिए.'' 

याचिकाकर्ता और सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंदर ने भाजपा के इन तीन नेताओं पर भड़काऊ भाषण देना का आरोप लगाते हुए गिरफ्तारी की मांग की थी. मंदर ने अपनी याचिका में कहा था कि तीन प्रमुख राजनेताओं द्वारा भड़काऊ भाषण दिए जाने के बाद हिंसा हुई है.