इस्लामाबाद:पाकिस्तान (Pakistan) में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) की संख्या बढ़कर 800 से ज्यादा हो गयी है जबकि 6 लोगों की मौत भी हो चुकी है. हालांकि कोरोना संक्रमण से देश को बचाने के काम में जुटे डॉक्टर्स के पास ही प्रोटेक्टिव गियर्स जैसे मास्क, सूट और दस्ताने की भारी कमी है. गिलगित बल्तिस्तान में कोरोना संक्रमितों का इलाज कर रहे डॉक्टर की कोरोना संक्रमण से मौत के बाद अब पाकिस्तान में डॉक्टर्स की बड़ी हड़ताल का खतरा मंडरा रहा है.

पाकिस्तानी प्रांत गिलगित बल्तिस्तान के अधिकारी शाह ज़मान ने रविवार को बताया कि ईरान से लौटे श्रद्धालुओं की जांच कर रहे डॉक्टर ओसामा रियाज़ की कोरोना संक्रमण से मौत हो गयी है. पहले उनकी मौत की वजहों पर पाकिस्तानी सरकार ने चुप्पी साधी हुई थी लेकिन अब ये सपष्ट हो गया है कि उनकी मौत कोरोना संक्रमण से ही हुई है. दक्षिण एशियाई देशों में पाकिस्तान में ही कोरोना संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं. इनमें से ज्यादातर मामले सिंध प्रांत में सामने आए हैं जो कि ईरान से सटा हुआ इलाका है.

कई और डॉक्टर्स में भी पाए गए कोरोना के लक्षण
इमरान सरकार ने माना है कि रियाज के अलावा कई और डॉक्टर्स में कोरोना संक्रमण के लक्षण नज़र आए हैं. पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस के अध्यक्ष डॉक्टर असफंदयार खान ने रविवार को इस्लामाबाद में एक प्रेस कांफ्रेंस कर इमरान सरकार को चेतावनी दी है कि या तो डॉक्टर्स को सुविधाएं दी जाएं, उनकी सुरक्षा का ध्यान रखा जाए नहीं तो एक बड़ी हड़ताल के लिए तैयार रहें.

असफंदयार ने कहा- बिना प्रोटेक्टिव गियर्स के कोरोना संक्रमितों का इलाज करना डॉक्टर्स के लिए आत्महत्या करने जैसा है. अगर ऐसा ही चलता रहा और डॉक्टर्स को सुविधाएं नहीं मिलीं तो कोई भी किसी कोरोना मरीज को छूने के लिए तैयार नहीं होगा. असफंदयार ने जल्द से जल्द प्रोटेक्टिव गियर्स न मिलने की स्थिति में हड़ताल की भी धमकी दी.

पाकिस्तान सरकार की कोशिशें नाकाम
पाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्री ज़फर मिर्जा ने शनिवार को देश की डॉक्टर एसोसिएशन के साथ एक मीटिंग की और भरोसा दिलाया था कि जल्द से जल्द सभी ज़रूरी चीजें मुहैया करा दी जाएंगी. हालांकि एक ही दिन बाद हड़ताल की चेतावनी जाहिर करती है कि इमरान सरकार डॉक्टर्स को समझाने में विफल नज़र आ रही है. ज़फर ने ट्वीट कर कहा था कि डॉक्टर्स के लिए 125000 इक्विपमेंट्स खरीदे जा चुके हैं और पाकिस्तान डिजास्टर मैनेजमेंट के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल मुहम्मद अफज़ल जल्द ही ये सामान अस्पतालों में पहुंचवा देंगे.

पाकिस्तान में नहीं हैं वेंटिलेटर्स
अफज़ल ने डॉक्टर्स के अलावा मरीजों को लेकर भी कई चिंताएं जाहिर की हैं. उनके मुताबिक पूरे पाकिस्तान में फिलहाल 2300 वेंटिलेटर्स मौजूद हैं जिनमें से 1700 सरकारी अस्पतालों में जबकि 600 प्राइवेट अस्पतालों में मौजूद हैं. पाकिस्तान को कोरोना से निपटने के लिए कम से कम 800 और वेंटिलेटर्स की तत्काल ज़रूरत है. इसके अलावा 2 लाख N95 मास्क एक लाख टेस्ट किट की अभी ज़रूरत है नहीं तो स्थिति नियंत्रण से बहार जा सकती है. पाकिस्तान में फ़िलहाल 9 लाख लोगों का अस्पतालों में इलाज करने की क्षमता है.