इस्लामाबाद, पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ को अयोग्य घोषित करने की मांग वाली एक याचिका यहां के उच्च न्यायालय में दायर की गयी है। आरोप है कि आसिफ ने संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में एक कंपनी में अपनी नौकरी की बात छुपायी थी। इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के कार्यकर्ता मोहम्मद उस्मान डार ने यह याचिका दायर की। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के आसिफ ने वर्ष 2013 के आम चुनावों में 21,000 मतों के अंतर से डार को शिकस्त दी थी।

डार ने आसिफ को अयोग्य घोषित करने की मांग करते हुए याचिका में आरोप लगाया है कि विदेश मंत्री ने यूएई स्थित कंपनी के साथ अपनी नौकरी के करार के बारे में विस्तृत जानकारी का खुलासा नहीं किया और उन्होंने अपने वेतन की जानकारी भी छुपाई। याचिका में दावा किया गया कि आसिफ वर्ष 2011 से मेक एंड एलेक को एलएलसी (आईएमईसीएल) के कर्मचारी थे, जहां वह विशेष सलाहकार के तौर पर कार्यरत थे।

इसमें दावा किया गया कि आसिफ अपना वेतन पाने के हकदार थे जो उनकी मिलने वाली संपत्ति थी। बहरहाल वर्ष 2013 के आम चुनाव से लेकर नेशनल असेंबली का चुनाव लड़ने के दौरान अपने नामांकन पत्र में उन्होंने इसका जिक्र नहीं किया, इसलिए वह नेशनल असेंबली का सदस्य बने रहने के योग्य नहीं हैं। यह याचिका मिलने वाली संपत्ति के संबंध में पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय की उस हालिया व्याख्या पर आधारित है जिसके आधार पर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अयोग्य घोषित किया गया था।