नई दिल्ली, भारतीय टेनिस के महान खिलाड़ी लिएंडर पेस अब अपने नाम एक नई उपलब्धि दर्ज करवा सकते हैं। लिएंडर पेस तेनजिन में अगले महीने चीन के खिलाफ होने वाले डेविस कप एशिया ओसनिया जोन ग्रुप एक के मुकाबले में यह विश्व रिकॉर्ड बना सकते हैं।

पेस यदि इस मुकाबले में युगल मैच में खेलने उतरते हैं और अपने मैच को जीत जाते हैं तो वह डेविस कप इतिहास के सबसे सफल युगल खिलाड़ी बन जाएंगे। 44 साल के पेस की भारतीय डेविस कप टीम में वापसी हुई है। अखिल भारतीय टेनिस संघ ने अनुभवी खिलाड़ी पेस को युगल विशेषज्ञ रोहन बोपन्ना की आपत्ति के बावजूद भारतीय टीम में शामिल किया है।

एआईटीए की चयन समिति ने पेस को शामिल करते हुए स्पष्ट किया था कि चयन में खिलाडिय़ों का हस्तक्षेप स्वीकार नहीं किया था। पेस को अब एक मौका मिला है कि वह युगल में नया विश्व रिकॉर्ड कायम करें। इससे पहले पेस कनाडा के खिलाफ डेविस कप विश्व ग्रुप प्लेऑफ मैच में टीम का हिस्सा नहीं थे।

डेविस कप का यह मुकाबला नए फार्मेट में खेला जाएगा और यह तीन दिनों के बजाय दो दिनों में होगा। भारत के सबसे सफल डेविस कप खिलाड़ी पेस ने अपने शानदार कॅरियर में डेविस कप में कुल 90 मैच जीते हैं और 35 हारे हैं। उन्होंने एकल में 48 मैच जीते हैं और 22 हारे हैं जबकि युगल में उन्होंने 42 मैच जीते हैं और 13 हारे हैं।

इटली के निकोला पैत्रांगली के नाम सर्वाधिक जीत का रिकॉर्ड है। पैत्रांगली ने डेविस कप में कुल 120 मैच जीते हैं और 44 हारे हैं। उन्होंने एकल में 78 मैच जीते हैं और 32 हारे हैं जबकि युगल में उन्होंने 42 मैच जीते हैं और 12 हारे हैं। पेस यदि चीन के खिलाफ युगल मुकाबले में उतरते हैं और जीत हासिल करते हैं तो वह नया इतिहास बना देंगे। पेस के कॅरियर का यह 56वां डेविस कप मुकाबला होगा जबकि इतालवी खिलाड़ी ने अपने कॅरियर में 66 डेविस कप मुकाबले खेले थे।