पिछले सप्ताह गठित की गई पीसीसी की नई कार्यकारिणी ने निकाय चुनावों को लेकर टिकट दावेदारों से रायशुमारी शुरू कर दी है। पीसीसी ने इन पदाधिकारियों को ही चुनाव पर्यवेक्षक का जिम्मा सौंप दिया है। जिलों का प्रभार इन्हें पहले ही दिया जा चुका है। ज्यादातर पदाधिकारी सोमवार को अपने प्रभार वाले जिलों में पहुंच गए। यहां वे टिकट दावेदारों से वन टू वन मुलाकात कर रहे हैं।

पदाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि निकाय चुनावों के टिकट दावेदारों से बातचीत कर 13 जनवरी तक 3-3 नामों के पैनल तैयार कर प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को सौंप दें। डोटासरा का कहना है कि पैनल मिलने के बाद 14 जनवरी को पर्यवेक्षकों के जरिए ही प्रत्याशियों को टिकट सौंप दिए जाएंगे।

पीसीसी की कार्यकारिणी के गठन से पहले पिछले साल हुए निकाय और पंचायत चुनावों में कांग्रेस के मंत्री, विधायक व विधायक प्रत्याशियों ने ही दावेदारों के टिकट फाइनल किए थे, लेकिन अब पहला मौका है जब संगठन के टीम के जरिए ही टिकट दिए जाने की बात कही जा रही है।

जिलों में जाकर किया जाएगा पार्टी प्रत्याशियों का ऐलान
दावेदरों के पैनल में से नाम फाइनल होने के बाद सूची पर्यवेक्षक को सौंप दी जाएगी। इसके बाद पर्यवेक्षक जिलों में जाकर पार्टी के प्रत्याशी के नाम का ऐलान कर देंगे।

पीसीसी में कंट्रोल रूम
90 निकायों में हो रहे चुनावों के लिए नामांकन प्रक्रिया सोमवार से शुरू हो गई है। लेकिन कांग्रेस नामांकन के अंतिम दिन तक ही सभी टिकट फाइनल करेगी। इन निकाय चुनावों के प्रबंधन के लिए पीसीसी मुख्यालय में कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। यहां से प्रभारियों और स्थानीय पदाधिकारियों को निर्देश जारी किए जाएंगे।