कोटा, राज्य पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ ने सोमवार को कोटा में डिकाय आपरेशन कर भ्रूण लिंग जांच एवं अनाधिकृत रूप से गर्भ समापन करने में लिप्त कोटा की दायी नर्स दलाल शान्तिरानी को गिरफ्तार किया गया। अध्यक्ष, राज्य समुचित प्राधिकारी एवं मिशन निदेशक एनएचएम, नवीन जैन ने बताया कि मुखबिर के माध्यम से 91/बी वार्ड नं. 42 इन्द्रा कालोनी, कच्ची बस्ती, विज्ञान नगर, कोटा में दायी नर्स शान्तिरानी उम्र 50 वर्ष द्वारा गर्भवती महिलाओं की गर्भस्थ शिशु की लिंग जांच करवाकर अनाधिकृत रूप से गर्भसमापन करने की सूचना प्राप्त हो रही थी। सूचना की पुष्टि के बाद डिकाय महिला और सहयोगी महिला को बोगस ग्राहक बनाकर सोमवार को प्रातः दलाल शान्तिरानी के पास इसके निजी आवास पर भेजा गया।

जैन ने बताया कि भ्रूण लिंग जांच हेतु 25 हजार रूपये दलाल नर्स ने लिए और अपने साथ डिकाय गर्भवती महिला एवं सहयोगी महिला को विज्ञान नगर, कोटा में स्थित सायन सोनोग्राफी एण्ड डाईग्नोस्टिक सेन्टर पर ले गयी। जहां पर सामान्य सोनोग्राफी के छः सौ रूपये देकर फीटल वेल बिंग की सोनोग्राफी करवाकर गर्भवती महिला को सेन्टर के बाहर लेकर आ गयी और स्वयं ने मनगढंत कहा कि मैं डाक्टर से पूछकर आपको जांच का नतीजा बताती हूं पर कुछ समय बाद दलाल नर्स सेन्टर के गेट तक जाकर आयी। इसके बाद आकर दलाल नर्स ने गर्भवती एवं सहयोगी महिला को मनगढंत रूप से भ्रूण के लिंग के बारे में बताया।

मिशन निदेशक ने बताया कि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पीबीआई एवं परियोजना निदेशक, पीसीपीएनडीटी रघुवीर सिंह के नेतृत्व में गठित टीम को इशारा मिलते ही दलाल नर्स शान्ति के कब्जे से उसके घर से हू-बू-हू नम्बरी राशि 24 हजार रूपये जब्त कर दलाल स्टाफ नर्स को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि सायन सोनोग्राफी सेन्टर, कोटा की भूमिका की एक्टिव ट्रेकर के माध्यम से जांच की जावेगी। इस डिकाय कार्यवाही में सीआई सीताराम, हैड कांस्टेबल डालचन्द, लालूराम, जिला पीसीपीएनडीटी प्रभारी बून्दी के राजीव लोचन गौतम, झालावाड़ के प्रभुलाल ऐरवाल, बारां के दीपक जैन एवं कोटा की प्रमोद कंवर शामिल थे।