नई दिल्ली, आज दातों में तमाम तरह की बीमारियां होती हैं। वहीं पहले यह समस्याएं कम होती थीं। पहले के लोगों की दात काफी मजबूत होते थे। लेकिन आज भी टूथ पेस्ट की जगह पर नीम के दातुन का उपयोग किया जाए तो काफी लाभ होगा। दातों में लंबे समय तक कोई बीमारी नहीं होगी। वैद्य रविन्द्र भारती ने बताया कि आज भी तमाम चौक चौराहों पर ये दातुन मिल जाते हैं। यदि संभव हो तो इसका उपयोग जरूर करना चाहिए। इसके निम्न फायदे हो सकते हैं।

दांतों में कीड़ों से बचाव- नियमित रूप से नीम के दातुन से दांतों को साफ करेंगे तो कभी भी कीड़े की समस्या नहीं होगी, क्योंकि यह किटाणुनाशक होता है।

मुँह में बदबू, पस और सड़न से राहत- यह दांतों में सड़न, मुँह में बदबू, पस आदि को होने से रोकती है।
मुँह के छालों को करता है ठीक- नीम के दातुन का एन्टी-माइक्रोबायल गुण मुँह के छालों को जल्दी ठीक होने में बहुत मदद करता है और उनका बार-बार आना कम करता है।

दांतों के दर्द में असरदार रूप से काम करता है- नीम के दातुन को अच्छी तरह से धोकर धीरे-धीरे चबाना चाहिए, उससे जो रस निकलता है वह दांतो के दर्द को दूर करता है क्योंकि इसका एन्टी-बैक्टिरीयल, एन्टी-फंगल और एन्टी-वायरल गुण इस क्षेत्र में बहुत काम करता है। साथ ही मसूड़े मजबूत होते हैं जिसके कारण बुढ़ापे में भी दांतों की कोई समस्या नहीं होती है।

दांतो का पीलापन दूर करता है- नीम के दातुन से जो रस निकलता है वह दातों के पीलेपन को साफ करके उन्हें सफेद, स्वस्थ और चमकदार बनाता है।