पुणे:यूनिवर्सिटी ऑफ मुंबई की एक प्रोफेसर ने खाने को लंबे समय तक ताजा रखने की तकनीक खोजी है। उनके इस आविष्कार की दुनियाभर में तारीफ की जा रही है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, प्रोफेसर वैशाली बमबोले (48) और उनके साथ काम करने वाले वैज्ञानिकों ने उबले हुए खाने को बिना किसी प्रिजरवेटिव के तीन साल तक खराब होने से बचाने का तरीका खोज लिया है। इसकी खास बात यह है कि पूरे समय खाना मुलायम बना रहता है। साथ ही टेस्ट और न्यूट्रिशनल वैल्यू में भी कोई बदलाव नहीं होता।

सेना और एस्ट्रोनॉट्स के काम आएगी वैशाली की खोज

  1. वैशाली की इस खोज को सेना के लिए अहम माना जा रहा है। दरअसल, कई बार युद्ध या इमरजेंसी की वजह से सैन्य ठिकानों में लंबे समय तक खाना नहीं पहुंच पाता। साथ ही आपदा प्रबंधन के समय भी खाना पहुंचाने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। 

  2. आमतौर पर ऐसे समय में सेना को जो फूड पैकेट दिए जाते हैं वो सिर्फ 90 दिन ही चलते हैं। ऐसे में वैशाली और उनकी टीम की खोज की दुनियाभर में तारीफ हो रही है। डॉक्टर वैशाली बमबोले ने बताया कि वे इस तकनीक पर पिछले करीब छह साल से काम कर रही थीं। यह इलेक्ट्रॉन बीम रेडिएशन तकनीक है। इसके जरिए इडली, उपमा और ढोकले जैसे भारतीय व्यंजनों को तीन साल तक बिना कोई प्रिजरवेटिव डाले ताजा रखा जा सकता है।

  3. वैशाली अभी अपनी खोज का पेटेंट कराने में जुटी हैं। उनके मुताबिक, इलेक्ट्रॉन बीम रेडिएशन तकनीक से उबले हुए खाने के कीटाणु खत्म हो जाते हैं। इससे खाने की ताजगी लंबे समय तक बरकरार रहती है। यह तकनीक सेना, एस्ट्रोनॉट्स और आपदा के दौरान फंसे लोगों की खाने की जरूरतों को पूरा करेगी।