प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पांच दिन के विदेशी दौरे पर स्वीडन और ब्रिटेन रवाना हो रहे हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री कॉमनवेल्थ समिट में हिस्सा लेंगे। वैसे इस दौरे की बात करें तो मोदी का मुख्य कार्यक्रम ब्रिटेन में ही होगा। हालांकि, ब्रिटेन से पहले प्रधानमंत्री स्वीडन जाएंगे। यहां वो दोनों देशों के रिश्तों पर एक अहम बातचीत में हिस्सा लेंगे। मोदी जब कॉमनवेल्थ समिट के लिए लंदन में होंगे तो यहां उनके अलावा 51 और देशों के राष्ट्राध्यक्ष होंगे। खास बात ये है कि अकेले मोदी को इस समिट के दौरान लिमोजिन कार से सफर का मौका और इजाजत दी गई है। समिट में शामिल होने वाले बाकी नेता एक स्पेशल बस से सफर करेंगे।

मोदी 18 अप्रैल को  लंदन के ऐतिहासिक वेस्टमिंस्टर सेंट्रल हॉल में एक खास प्रोग्राम में हिस्सा लेने वाले हैं। इस प्रोग्राम को ‘भारत की बात, सबके साथ’ नाम दिया गया है। इस दौरान प्रधानमंत्री सोशल मीडिया के जरिए पूछे गए सवालों के जवाब देंगे। ये सवाल किसी एक देश के लोगों के ना होकर दुनियाभर से चुने जाएंगे। इस कार्यक्रम को यूरोप इंडिया फोरम ने आयोजित किया है। प्रधानमंत्री स्वीडन से सीधे लंदन पहुंचेंगे।

ब्रिटिश पीएम से बातचीत
- ब्रिटेन में मोदी का भव्य स्वागत किया जाएगा। इस दौरान ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे से उनकी बातचीत होगी। इसके बाद एक और कार्यक्रम में दोनों नेताओं की मुलाकात होगी। 
- प्रधानमंत्री ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ से भी मुलाकात करेंगे। कॉमनवेल्थ मीटिंग में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी और राष्ट्रपति ममनून हुसैन भी शिरकत करेंगे।

लिमोजिन कार में सफर की इजाजत
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कॉमनवेल्थ समिट में आने वाले 52 देशों के प्रमुखों में से मोदी अकेले प्रधानमंत्री होंगे, जिन्हें वहां लिमोजिन कार से सफर करने की इजाजत होगी। अन्य देशों के नेता समिट के दौरान कोच (बस) से सफर करेंगे। 2009 के बाद से कॉमनवेल्थ समिट में हिस्सा लेने वाले नरेंद्र मोदी पहले भारतीय पीएम होंगे।