जयपुर:खनिज विभाग से ओवरलोडिंग के आंकड़ों के आधार पर परिवहन विभाग द्वारा खनन व्यवसायियों को जुर्माने के जो नोटिस भेजे जा रहे हैं, उन से हड़कंप मच गया है। इसी के चलते आज राजस्थान स्टोन क्रेशर एसोसिएशन और राजस्थान स्मॉल माइन्स चेहरा पत्थर लीज होल्डर एसोसिएशन की एक संयुक्त बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में निर्णय लिया गया कि तत्काल प्रभाव से खनिज परिवहन को अंडरलोड ही चलाया जाएगा। 

बैठक में यह भी निर्णय किया गया कि जल्द ही मुख्यमंत्री को इस बात से अवगत कराया जाएगा कि खनिज परिवहन की जो टीपी और रवन्ना खान विभाग द्वारा जारी की गई, उतना ही खनिज परिवहन किया गया। खनिज विभाग पहले ही ओवरलोड भरता रहा और उसकी रॉयल्टी लेता रहा। ऐसे में खनन व्यवसायियों से ओवरलोडिंग का भारी-भरकम जुर्माना वसूल नहीं किया जाए। साथ ही इस बात की मांग भी की जाएगी कि भविष्य में खान विभाग अंडरलोड के ही परमिट और रवन्ना जारी करे और ओवरलोड पर पहले की भांति चेक लगाया जाए। इसके अलावा अरावली में अवैध खनन और माइनर मिनरल कंसेशन रूल्स में आंशिक बदलाव पर भी चर्चा की गई। आज की बैठक में हुए निर्णय का ज्ञापन लेकर शीघ्र ही मुख्यमंत्री से खनन व्यवसाय मुलाकात करेंगे।